February 7, 2023

उत्तराखंड से अंग्रेज चले गए मगर अपना भूत छोड़ गए, आज भी सोते सिपाही को लगाता है मार

लैंसडाउन, एक खूबसूरत शहर जिसे औपनिवेशिक काल के दौरान अंग्रेजों ने बसाया था। लैंसडाउन उत्तराखंड राज्य के गढ़वाल क्षेत्र में स्थित है। इस जगह को असल में कालो का डंडा कहा जाता है।

अपने घोड़े के साथ आज भी घूमता है लैंसडाउन की गालियाँ

इसे गढ़वाल राइफल्स के प्रशिक्षण केंद्र के रूप में लैंसडाउन में ब्रिटिश सरकार द्वारा विकसित किया गया था। लेकिन आज हम आपको लैंसडाउन से जुड़ी एक ऐसी दिलचस्प कहानी के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसे जानकर आप भी हैरान रह जाएंगे।

यूं तो भूतों की कहानियां न केवल लैंसडाउन बल्कि पूरे उत्तराखंड में बहुत लोकप्रिय हैं, लेकिन यह एक ब्रिटिश अधिकारी के रूप में बहुत लोकप्रिय है। कहा जाता है कि यहां. डैशिंग अंग्रेज का भूत एक सफेद घोड़े पर सवार देखा जाता है।

 

यह रात में लैंसडाउन छावनी में घूमता है और छावनी में ड्यूटी पर तैनात सैनिकों पर नजर रखता है। अगर कोई सिपाही नाइट ड्यूटी पर सोता हुआ मिलता है तो भूत उसके सिर पर वार कर उसे जगा देता है। घोड़े पर सवार अंग्रेज का भूत उन सिपाहियों को भी परेशान कर देता है जो भद्दे ढंग से वर्दी पहनते हैं।

बताया जा रहा है कि यह भूत एक ब्रिटिश अधिकारी डब्ल्यू एच वार्डेल का है, जिनकी मृत्यु प्रथम विश्व युद्ध के दौरान हुई थी। खबर यह भी प्रचलित है कि आज तक उनकी लाश नहीं मिली है।

डब्ल्यू एच वार्डेल एक ब्रिटिश अधिकारी थे जो 1893 में भारत आए थे। उन्होंने पहले युद्ध के दौरान बहादुरी से लड़ाई लड़ी। युद्ध में उनकी मृत्यु के बाद ब्रिटिश अखबारों में लिखा गया कि वे शेर की तरह लड़े और मरे।

तब से यह माना जाता है कि आज भी 100 साल बाद डब्ल्यू एच वार्डेल लैंसडाउन छावनी में भूत बनकर घूमता है। लोगों का मानना ​​है कि जिस रात वॉर्डेल को मारा गया था, उसी रात लैंसडाउन की छावनी में एक सिर विहीन अंग्रेज को सफेद घोड़े पर सवार देखा गया था। तब से वह प्रतिदिन छावनी में जवानों पर नजर रख रहे हैं।

Vaibhav Patwal

Haldwani news

View all posts by Vaibhav Patwal →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *