February 6, 2023

उत्तराखंड में और 3 जगह पर दिखी दरारें, जोशीमठ तो बस ट्रेलर है

जोशीमठ से आई तबाही की तस्वीरों ने पूरे देश के लोगों को डरा कर रख दिया है. किसने सोचा होगा कि बद्रीनाथ धाम और हेमकुंड साहिब जैसे तीर्थस्थलों के प्रवेश द्वार के रूप में मशहूर जोशीमठ की हालत इतनी खराब होगी।

नैनीताल में भी दिखी बड़ी दरारे से लोग परेशान

शहर का अस्तित्व संकट में है, लेकिन भूस्खलन की समस्या अकेले जोशीमठ में नहीं है। इसी तरह और भी कई पर्वतीय क्षेत्र डूब रहे हैं, लेकिन सरकार व प्रशासन ध्यान नहीं दे रहा है। सबसे पहले हम बात करेंगे नैनीताल की एक तस्वीर की। यहां जुलाई में बैंड स्टैंड के पास की दीवार झील में गिर गई।

पहले तो प्रशासन सोता रहा, लेकिन जब जोशीमठ में भूस्खलन जैसी घटना हुई तो यहां भी लोगों को शिफ्ट करने का काम शुरू हो गया है. यह और बात है कि अभी तक प्रभावित क्षेत्र के उपचार के लिए बजट जारी नहीं किया गया है। तीन साल पहले मल्लीताल बैंड स्टैंड के पास फुटपाथ में बड़ी दरार आ गई थी।

जुलाई 2022 में झील की सुरक्षा दीवार गिरकर झील में समा गई। जिससे बैंड स्टैंड में भी बड़ी दरारें आ गई। उस समय प्रशासनिक अधिकारियों ने क्षतिग्रस्त दीवार का काम जल्द शुरू करने की बात कही थी, लेकिन अब कोई जनप्रतिनिधि या अधिकारी यहां झांकने तक नहीं आता है।

भूवैज्ञानिक प्रो. सीसी पंत के अनुसार जब झील का जलस्तर बढ़ता है तो पानी किनारों की दीवारों के अंदर चला जाता है, फिर जब जलस्तर घटता है तो वह अंदर की मिट्टी को भी धो देता है। जिससे अंदर की जगह खाली हो जाती है।

नैनीताल की तरह सतपुली और रुद्रप्रयाग के गुप्तकाशी, नारकोटा और सेमी गांव भी भूस्खलन की चपेट में हैं। नारकोटा में रेलवे के लिए सुरंग बन रही है, जिससे लोगों के घरों में दरारें आ गई हैं. सिमी गांव लगातार डूब रहा है। गुप्तकाशी में भी अंधाधुंध शोषण हो रहा है। पहाड़ों में अनियोजित विकास कार्यों ने कई इलाकों को आपदा के कगार पर ला दिया है।

Vaibhav Patwal

Haldwani news

View all posts by Vaibhav Patwal →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *