February 6, 2023

सोने का अंडे देने वाली मुर्गी से कम नहीं उत्तराखंड की ये मुर्गी, बना चुकी है वर्ल्ड रिकार्ड

मुर्गी के सोने के अंडे देने की कहानी तो आप सभी ने सुनी होगी, वह कहानी झूठी है या सच?

एक दिन में 31 अंडे देकर बनाया रिकार्ड

इस कहानी की गहराई में जाने की जरूरत नहीं है, लेकिन आइए आपको उत्तराखंड के अल्मोड़ा जिले के भिकियासैंण में ले चलते हैं। जहां एक मुर्गी इन दिनों चर्चा में है वहीं ये मुर्गी वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाने और सोशल मीडिया पर सुपरस्टार बनने की राह पर है।

आप भी जानिए इसकी वजह जो इस मुर्गी ने की है। उन्होंने एक दिन में 31 अंडे देने का अनोखा रिकॉर्ड बनाया है। इसके बाद इस मुर्गी और इसके अंडों को देखने के लिए दूर-दूर से काफी संख्या में लोग पहुंच रहे हैं. एक मुर्गी लगातार अंडे दे रही है। इसे कुदरत की देन कहें या चमत्कार।

लेकिन एक दिन में 31 अंडे देना कोई आम बात नहीं है। मुर्गी लोगों को अपनी उंगलियां चबा रही है। अब माना जा रहा है कि शायद ये मुर्ग़ा वर्ल्ड रिकॉर्ड न बना पाए। इसकी संभावना जताते हुए इस घटना को गिनीज बुक में दर्ज करने की मांग की जा रही है।

इस मुर्गे को भईकियासैंण तहसील के बसोट में गिरीश चंद्र बुधानी ने पाला है। मालिक के पूछने पर उसने बताया कि उसकी मुर्गी मूंगफली और लहसुन की शौकीन है, उसने अलग ही कारनामा किया है। 25 दिसंबर यानी रविवार की शाम करीब 5 बजे जब गिरीश अपने घर पहुंचा तो उसकी मुर्गी लगातार दो-दो अंडे दे रही थी।

अंडे देने का सीजन सुबह आठ बजे शुरू हुआ और यह सिलसिला दिन भर रुक-रुक कर चलता रहा। रात करीब 10 बजे तक इस चमत्कारी मुर्गी ने 31 अंडे दिए। इतना ही नहीं, 3 दिन के अंदर उसी मुर्गी ने 44 अंडे दे दिए। घटना के बाद भिकियासैंण में यह खबर तेजी से फैल रही है। यानी मुर्गी तारा बन गई।

इस मुर्गे को देखने के लिए गिरीश चंद्र बुधानी के घर पर लोगों की भीड़ लगनी शुरू हो गई है. बताया जा रहा है कि उसके पास दो मुर्गियां हैं और वह मुर्गियों को सामान्य खाने के साथ-साथ मूंगफली भी खिलाता है. मुर्गी रोजाना करीब 200 ग्राम मूंगफली खा जाती है।

मुर्गी को अपनी आंखों के सामने अंडे देते देख घर के सभी लोग हैरान रह गए। उन्हें मुर्गे की सेहत को लेकर भी डर सताने लगा, लेकिन डॉक्टरों ने बताया कि वे स्वस्थ हैं।

Vaibhav Patwal

Haldwani news

View all posts by Vaibhav Patwal →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *