February 6, 2023

अब टिहरी झील तक पहुंचने में नहीं मिलेगा जाम, सरकार के नए प्लान में बनेगी 35km की डबल लेन सुरंग

भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (NHAI) की उत्तराखंड में बड़ी योजनाएँ हैं, जब इस तरह की मेगा योजना पर काम करने की बात आती है और राज्य भर में सड़कों का निर्माण होता है।

टिहरी झील को बनाया जाएगा गोवा की तर्ज़ पर

अब, अगला मिशन टिहरी झील को सुरक्षित और समस्या मुक्त मार्ग प्रदान करना है। यह टनल के जरिए सीधे दून को टिहरी झील से जोड़ेगा। जिसका निर्माण रानीपोखरी के पास से होगा और यह झील के पास कोटी कॉलोनी क्षेत्र में खुलेगा।

एनएचएआई के अधिकारियों के मुताबिक सुरंग की कुल लंबाई 35 किलोमीटर होगी और इसका शुरुआती बजट 8,000 करोड़ रुपये आंका गया है।

टनल निर्माण के मेगा प्रोजेक्ट पर आगे बढ़ते हुए प्राधिकरण के अधिकारियों ने टनल के एलाइनमेंट पर काम शुरू कर दिया है. सुरंग की मूल लंबाई 27 से 28 किमी होगी, जबकि शेष भाग को दोनों तरफ सड़कों से कवर किया जाएगा।

टिहरी झील देहरादून के रानीपोखरी क्षेत्र के उस हिस्से से करीब 80 किलोमीटर दूर है, जहां से सुरंग का निर्माण शुरू किया जाएगा। यहां से टिहरी झील तक पहुंचने में दो घंटे से ज्यादा का समय लगता है। टनल बनने के बाद यह दूरी महज एक घंटे में तय की जा सकेगी।

अधिकारियों के अनुसार इस परियोजना में टिहरी झील तक दो डबल लेन सुरंग का निर्माण होगा। 35 किमी की लंबाई में एक सुरंग से दूसरी सुरंग तक पहुंचने के लिए यू-टर्न भी निर्धारित होंगे।

दूसरी टनल आपात स्थितियों को ध्यान में रखकर बनाई जा रही है। ताकि आग, भूस्खलन और भूकंप की स्थिति में दूसरी सुरंग का इस्तेमाल किया जा सके। परियोजना में बड़े पैमाने पर वन भूमि का हस्तान्तरण किया जायेगा। साथ ही निजी जमीन का भी अधिग्रहण किया जाएगा।

हालांकि कुल ट्रांसफर और एक्विजिशन को लेकर अभी तस्वीर रिपोर्ट आनी बाकी है। सरकार उन पर्यटकों के लिए एक बेहतर विकल्प के रूप में टिहरी झील का पुनर्विकास करने की योजना बना रही है जो गोवा जैसे विशाल समुद्र में खेलना चाहते हैं, लेकिन गोवा नहीं जाना चाहते।

क्योंकि, टिहरी झील का आकार करीब 42 वर्ग किलोमीटर छोटे समुद्र जैसा है। इसके साथ ही सरकार यहां वाटर स्पोर्ट्स को लेकर लगातार सक्रियता बढ़ा रही है।

यहां एडवेंचरस स्पोर्ट को लेकर एक संस्था भी बनाई जा रही है। पर्यटन मानचित्र पर अंतरराष्ट्रीय क्षमता रखने वाली टिहरी झील तक सुरंग बनने से यहां से राजस्व बढ़ने की संभावना है।

Vaibhav Patwal

Haldwani news

View all posts by Vaibhav Patwal →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *