February 7, 2023

पिता ने देश के लिए दे दिए प्राण, माँ के सपने को पूरा करने के लिए सेना में अफसर बना पिथौरागढ़ का चंचल

उत्तराखण्ड प्रारंभ से ही वीरों की भूमि रही है, यहाँ के लोग प्राचीन मध्यकाल या आधुनिक काल में भी अपने शौर्य के लिए जाने जाते हैं। अभी तक इस धरती ने भारतीय सेना को कई सैनिक दिए हैं।

माँ से पिता की कहानी सुनकर प्रेरणा लेता था चंचल

इसके साथ ही चंचल का एक और नाम जुड़ जाता है। चंचल का जन्म पिथौरागढ़ में हुआ था। उनकी आंखों में उनके शहीद पिता का सपना था, उनके सामने एक मां थी जिसने अपने बेटे के भारतीय सेना में भर्ती होने के सपने संजोए थे।

चंचल सिंह 22 साल पहले सीमा पर शहीद हुए शहीद हरिश्चंद्र के बेटे हैं और उनकी शहादत के 22 साल बाद उनका बेटा चंचल सिंह सेना में अफसर बनने में कामयाब हुआ है।

उनके लिए यह आसान नहीं था लेकिन चंचल सिंह ने बचपन में ही तय कर लिया था कि वह सेना में शामिल होंगे। उन्होंने देहरादून में भारतीय सैन्य अकादमी में आयोजित पासिंग आउट परेड में भाग लिया और सेना में एक अधिकारी बन गए।

चंचल महज 5 साल की थी जब जम्मू-कश्मीर में ऑपरेशन रक्षक के दौरान उनके पिता हरिश्चंद्र की जान चली गई थी, उस समय उनका पूरा परिवार टूट गया था और परिवार पूरी तरह से मानसिक रूप से बिखर गया था। तब उनकी मां ने परिवार को फिर से जोड़ा।

उनकी मां बचपन से ही उनके बेटे चंचल को शहीद पिता की वीरता के किस्से सुनाया करती थीं और तब से वह अपने पिता से बहुत प्रभावित हुए और भारतीय सेना में शामिल होने की इच्छा जताई।

वह देहरादून स्थित भारतीय सैन्य अकादमी की पासिंग आउट परेड में भारतीय सेना का हिस्सा बने। उस ऐतिहासिक पल को महसूस करने के लिए उनकी मां, उनके भाई सहित पूरा परिवार मौजूद था और वह पूरा पल पूरे परिवार के लिए एक भावुक क्षण साबित हुआ.

Vaibhav Patwal

Haldwani news

View all posts by Vaibhav Patwal →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *