February 6, 2023

क्या, बॉलीवुड में फिर से अपने पैर पसार रहा है माफिया? कई निर्देशकों ने खोले अपने मुँह

हर बार जब कोई बॉलीवुड फिल्म स्क्रीन पर हिट होने वाली होती है, तो सोशल मीडिया पर बॉयकॉट बॉलीवुड और बॉयकॉट एक्टर/फिल्म के ट्रेंड चलन में आ जाते हैं। लेकिन इतना ही नहीं, एक बार जब फिल्म अच्छा करती है और बॉक्स ऑफिस नंबर सामने आते हैं, तो हम देखते हैं कि बॉलीवुड माफिया खबरें बना रहे हैं।

बॉलीवुड में नहीं है कोई माफिया

दिलचस्प बात यह है कि बॉयकॉट बॉलीवुड का चलन प्रशंसकों से प्रेरित है, फिल्म उद्योग के अंदर ‘माफिया’ के बारे में बात करने वाले लोग बिरादरी से ही हैं। तो कहानी के वास्तविक पक्ष को प्रकट करने के लिए कुछ सबसे प्रसिद्ध फिल्म निर्माताओं से बेहतर कौन होगा?

निर्देशक अनीस बज्मी (भूल भुलैया 2), विकास बहल (क्वीन, गुडबाय), अभिषेक शर्मा (राम सेतु), महावीर जैन (उन्नचाई) चल रहे 53वें आईआईएफआई, गोवा में फिल्म उद्योग में पैनल कॉरपोरेट कल्चर में थे, जहां उन्होंने साझा किया उनके विचार।

पैनल ने इस बात पर चर्चा की कि कैसे कॉरपोरेट्स रचनात्मक कॉल पर अपनी हिस्सेदारी बढ़ा रहे हैं और फिल्म उद्योग का कॉरपोरेटीकरण किस तरह से फिल्मों को बनाने के तरीके को प्रभावित कर रहा है।

निदेशकों ने नफा-नुकसान पर विचार किया और एक आम सहमति थी कि शायद उद्योग में एकता और भ्रम की कमी है कि क्या यह एक ‘उद्योग’ भी है।

अनीस बज्मी, जो कुछ दशकों से उद्योग में हैं और पूर्व-निगमीकरण और बाद के बदलावों को देखते हैं, ने कहा, ‘फिल्म उद्योग दिल और भावनाओं का स्थान है। कई बार ऐसा हुआ है कि प्रोड्यूसर्स ने हमें चेक दिए और वो हमारी दराज में ही रह गए।

किसी ने परवाह नहीं की लेकिन फिर से साथ काम करने लगे। इतने बड़े धन का परित्याग केवल यहीं होता है, क्योंकि इसमें भावना शामिल होती है।’ जिस निर्देशक ने हमें महामारी के बाद के समय में कार्तिक आर्यन के साथ सबसे बड़ी ब्लॉकबस्टर में से एक दी, उन्होंने आगे कहा, ‘कोई माफिया नहीं है।

हां, हर जगह हर तरह के लोग हैं और कुछ लोग छतों से चिल्ला रहे हैं लेकिन इस तरह से यह जगह काम नहीं करती है’। अन्य निदेशक समझौते में थे। कोमल नाहटा, वरिष्ठ फिल्म समीक्षक और व्यापार विश्लेषक, जो सत्र का संचालन कर रहे थे, ने कहा, ‘पूरा विवाद है जो विशेष रूप से सुशांत सिंह राजपूत की मृत्यु के बाद बनाया गया है, जिससे उद्योग को काम करने के लिए एक बहुत ही खतरनाक जगह की तरह लग रहा है।

लेकिन फिल्म दिल से बनती है, दिमाग से पैसा आता है। माफिया मौजूद नहीं है और यह देखकर दुख होता है कि इंडस्ट्री के लोग इस तरह की झूठ बोलते हैं और अपनी बिरादरी को बदनाम करते हैं।’

फिल्म प्रेमी ‘उद्योग के अंदरूनी सूत्रों’, प्रमुख नामों और चेहरों को जल्दी याद करेंगे, जो बॉलीवुड माफिया को बेनकाब करने में लगे रहे हैं। हमें आश्चर्य है कि अब उन्हें इस पर क्या कह ना होगा।

Vaibhav Patwal

Haldwani news

View all posts by Vaibhav Patwal →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *