February 6, 2023

ऋषिकेष में बनेगा भारत का पहला ग्लास पुल्ल, राम, लक्ष्मण के बाद बनेगा बजरंग सेतु

जब आप ऋषिकेश जाते हैं तो वहां घूमने के लिए कई स्थान हैं जिनका ऐतिहासिक या प्राचीन महत्व है। लेकिन जो सबसे ऊपर रहता है वह ऐतिहासिक लक्ष्मणझूला सेतु है।

केदारनाथ मंदिर की तरह होंगे पुल के दोनों सिरे

लक्ष्मणझूला पुल से हर साल ऋषिकेश आने वाले लाखों श्रद्धालु गंगा नदी के दर्शन करने आते हैं, लेकिन आने वाले समय में इस पुल की जगह बजरंग सेतु ले जाएगा।

लोक निर्माण विभाग यहां बजरंग सेतु का निर्माण करवा रहा है, जो लक्ष्मण झूला पुल का विकल्प बनेगा। लोनिवि नरेन्द्र नगर खंड के कार्यपालन यंत्री मो. आरिफ खान के मुताबिक इस ब्रिज का निर्माण जुलाई 2023 में पूरा कर लिया जाएगा।

इसके लिए काम शुरू हो गया है और नए पुल के लिए गंगा के दोनों किनारों पर फाउंडेशन का काम चल रहा है. बजरंग सेतु के दोनों ओर जो मीनारें बन रही हैं, वे केदारनाथ मंदिर के आकार की तर्ज पर बनाई जाएंगी। टावर की ऊंचाई करीब 27 मीटर होगी।

कुल 133 मीटर लंबाई और आठ मीटर चौड़ाई वाला यह पुल तीन लेन का होगा। इस पुल के बीच से छोटे चार पहिया वाहन गुजर सकेंगे। पुल के बीच में दुपहिया और चौपहिया वाहनों के लिए ढाई मीटर की डबल लेन होगी। पुल के दोनों ओर शीशे का वॉकवे (फुटपाथ) होगा।

इस पर खड़े होकर पर्यटक 57 मीटर की ऊंचाई से गंगा के बहते पानी का अद्भुत नजारा देख सकेंगे और उस पर चल सकेंगे। इस ग्लास की मोटाई 65mm है, जो काफी मजबूत है। पुल के लिए कुल 68 करोड़ रुपये की वित्तीय मंजूरी दी गई है। लक्ष्मणझूला पुल, बजरंग पुल की जगह लेगा, 1927 से 29 के बीच ब्रिटिश शासन के दौरान बनाया गया था।

12 जुलाई, 2019 को लोक निर्माण विभाग की सुरक्षा ऑडिट रिपोर्ट में इस पुल को असुरक्षित घोषित किया गया था, प्रशासन ने बंद कर दिया था आंदोलन के लिए यह पुल। इसके बाद नए पुल के निर्माण की तैयारी शुरू की गई, जिसकी जिम्मेदारी लोनवी को दी गई है। जुलाई 2019 से लक्ष्मणझूला पुल पर आवाजाही बंद है, जिससे लोग परेशान हैं।

पुल का विकल्प नहीं होने से यहां दोनों तरफ का बाजार भी प्रभावित है। जल्द ही यहां बजरंग सेतु का निर्माण पूरा हो जाएगा, जो देश-विदेश के पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र बनेगा।

Vaibhav Patwal

Haldwani news

View all posts by Vaibhav Patwal →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *