Breaking News
Home / उत्तराखंड न्यूज़ / देहरादून में पहले बिना अनुमती के अंदर आया कोब्रा फिर रातों रात हुआ गायब, सवालों के घेरे में आया विभाग

देहरादून में पहले बिना अनुमती के अंदर आया कोब्रा फिर रातों रात हुआ गायब, सवालों के घेरे में आया विभाग

हाल ही में देहरादून चिड़ियाघर से एक बड़ी खबर सामने आ रही है। दून चिड़ियाघर से एक कोबरा के लापता होने के बाद से विभागीय हड़कंप मच गया है. कोबरा का गायब होना निश्चित रूप से एक बड़ा मुद्दा नहीं लगता था।

लगातार हो रही लापरवाही से सवालों के घेरे में आया वन विभाग

लेकिन अब यह बड़ा मामाला बन गया है, क्योंकि यह एक लुप्तप्राय प्रजाति है और कहा जाता है कि विभाग के लोग इसकी सुध ले रहे हैं। वन मंत्री सुबोध उनियाल ने देहरादून चिड़ियाघर से कोबरा सांप के गायब होने की जांच के आदेश दिए हैं। यह पहली बार नहीं है जब उत्तराखंड वन विभाग जांच के दायरे में आया है।

वन्यजीवों को लेकर चल रहे विवाद थमने का नाम नहीं ले रहे हैं। राजाजी नेशनल पार्क में बाघिन के लापता होने और कॉर्बेट नेशनल पार्क से बिना केंद्र की अनुमति के हाथियों को गुजरात भेजने के बाद अब देहरादून जू से कोबरा सांप।

वन्यजीव कार्यकर्ता पंकज पोखरियाल ने चिड़ियाघर में किंग कोबरा को रखने की अनुमति आदि के संबंध में एक आरटीआई दायर की है। इसकी भनक लगते ही चिड़ियाघर प्रशासन ने किंग कोबरा को अपनी गर्दन बचाने के लिए चिड़ियाघर से गायब कर दिया।

कहां गया यह किंग कोबरा, इस मामले पर ते जू के लोग इसे लेकर कोई बयान नहीं दे रहे हैं. मामला सामने आने के बाद वन मंत्री ने इसकी जांच के आदेश दे दिए हैं। मीडिया के मुताबिक पहले इस कोबरा को बिना मंजूरी के देहरादून के चिड़ियाघर में रखा गया था और उसके बाद यह सांप अब इस चिड़ियाघर में मौजूद नहीं है।

यह सांप प्रशासन के लिए गाई की हड्डी बन गया क्योंकि आखिर यह सांप गया कहां और इसके बारे में तरह-तरह की बातें की जा रही हैं. उधर, वन मंत्री सुबोध उनियाल का कहना है कि यह मामला उनके संज्ञान में है।

उन्होंने कहा कि वन विभाग कोबरा को बचाकर लाया था और अब इस बात की जांच की जा रही है कि कोबरा कहां गया और कैसे गया.

About Vaibhav Patwal

Haldwani news