Breaking News
Home / मोटिवेशनल / पिता बेचते थे फल बेटे ने खड़ी करदी करोड़ों की कंपनी, आज खुद के है बगीचे

पिता बेचते थे फल बेटे ने खड़ी करदी करोड़ों की कंपनी, आज खुद के है बगीचे

हर व्यक्ति अपने जीवन में अमीर बनना चाहता है और अपनी जिंदगी को आलीशान तरीके से बिताना चाहता है, लेकिन अमीर बनने के लिए किसी भी व्यक्ति के अंदर एक अलग तरह का जुनून होना जरूरी है और उसे करने के लिए उसके पास मेहनत की इच्छाशक्ति होनी चाहिए।

छोटी सी आइस क्रीम की दुकान से शुरू सफर कि आज हैं देश के कोने कोने में ब्रांच

बहुत से लोग अच्छी शिक्षा प्राप्त करके अपने जीवन में सफल हो जाते हैं, जबकि कुछ लोग जोखिम उठाकर और व्यवसाय करके अपना जीवन बनाते हैं और धन संचय करते हैं। लेकिन आज के दौर में बिजनेस शुरू करना आसान नहीं है।

बिजनेस शुरू करने के लिए सबसे पहले लोगों के पास पैसा होना जरूरी है।आज हम आपको एक ऐसे शख्स की मोटिवेशनल कहानी बताने जा रहे हैं जिसने एक छोटी सी दुकान से अपना बिजनेस शुरू किया था। हम जिस शख्स की बात कर रहे हैं उनका नाम रघुनंदन एस कामठे है।

उनका नाम तो हर कोई नहीं जानता लेकिन हम सब उनकी कंपनी की आइसक्रीम खाते हैं। हम बात कर रहे हैं नेचुरल आइसक्रीम कंपनी के मालिक रघुनंदन की। आज हम आपको रघुनंदन की निजी जिंदगी के बारे में बताएंगे और यह भी बताएंगे कि कैसे उन्होंने एक छोटी सी दुकान से 3000 करोड़ की कंपनी बनाई।

रघुनंदन के शुरुआती जीवन की बात करें तो उनके पिता एक फल विक्रेता थे। उनका बचपन भी अच्छा नहीं था और उन्होंने गरीबी में अपने दिन बिताए, लेकिन इसके बावजूद उन्होंने अच्छी शिक्षा प्राप्त की। बड़े होकर उन्होंने अपना खुद का व्यवसाय शुरू करने का फैसला किया।

जिसके बाद उन्होंने अपने चार कर्मचारियों के साथ मिलकर 10 तरह की आइसक्रीम के अलग-अलग फ्लेवर बनाए। उसने लोगों को उन आइसक्रीम का स्वाद चखा। रघुनंदन की आइसक्रीम खाने के बाद लोगों ने उनकी खूब तारीफ की, जिससे रघुनंदन को मोटिवेशन मिला।

आइसक्रीम के अलग-अलग फ्लेवर बनाने के बाद उन्होंने तय किया कि अब वह अपने बिजनेस को बड़े स्तर पर ले जाएंगे। जिसके बाद उन्होंने कई अलग-अलग नए फ्लेवर जोड़े।

धीरे-धीरे उनका कारोबार शुरू हुआ, लोगों का मानना ​​है कि, प्राकृतिक आइसक्रीम का स्वाद बाकी आइसक्रीम कंपनी से काफी अलग होता।

About Vaibhav Patwal

Haldwani news