February 7, 2023

शिक्ष विभाग और शिक्षा मत्रालय का बड़ा फैला, जिससे खिल जाएंगे हिन्दी मीडियम वाले बच्चों के चेहरे

कई चर्चाओं के बाद आखिरकार उत्तराखंड में आदेश हैं कि मेडिकल की पढ़ाई हिंदी में भी की जा सकती है। यह उन बच्चों के चेहरे पर मुस्कान जरूर लाएगा जो एम.बी.बी.एस. करने की योजना बना रहे हैं लेकिन हिंदी माध्यम से पढ़ाई करने से डरते हैं।

जल्द पूरा होगा हिन्दी मीडियम वालों का सपना

एक डॉक्टर होने के नाते और समाज की मदद करना कई छात्रों का सपना होता है। डॉक्टर बनना चाहे कुछ भी हो, लेकिन डॉक्टर बनना हमेशा से एक सपना था। लाखों बच्चे डॉक्टर बनने का सपना देखते हैं, लेकिन कुछ ही लोग इसे पूरा कर पाते हैं, इसका एक बड़ा कारण यह है कि उनके पास इसे प्रशिक्षित करने के लिए पर्याप्त योग्यता नहीं है।

आज भी देश में लाखों बच्चे हिन्दी माध्यम के स्कूलों में पढ़ते हैं और मेडिकल की पढ़ाई अंग्रेजी में होती है। ऐसे बच्चों को अब अंग्रेजी की चिंता करने की जरूरत नहीं है। मप्र में चिकित्सा शिक्षा देना शुरू हो चुका है। अब यह व्यवस्था उत्तराखंड में भी लागू होने जा रही है।

इसके लिए राज्य के चिकित्सा शिक्षा विभाग ने पौड़ी जिले के श्रीनगर के शासकीय मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. सीएमएस रावत की अध्यक्षता में चार सदस्यीय विशेषज्ञ समिति का गठन किया है।

यह समिति मप्र के सरकारी कॉलेजों में लागू एमबीबीएस के हिंदी पाठ्यक्रम का अध्ययन कर उत्तराखंड के कॉलेजों के लिए नए पाठ्यक्रम का प्रारूप तैयार करेगी। 16 अक्टूबर को, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने हिंदी भाषा में चिकित्सा शिक्षा प्रदान करने के लिए मध्य प्रदेश सरकार की एक महत्वाकांक्षी परियोजना के तहत एमबीबीएस छात्रों के लिए तीन विषयों की हिंदी में पाठ्य पुस्तकें जारी की हैं।

इस बारे में उत्तराखंड के सीएम पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि एमपी, यूपी में एक शुरुआत हो गई है कि या तो एमबीबीएस की पढ़ाई हिंदी में करने को लेकर चर्चा हुई. उत्तराखंड में भी हिंदी में चिकित्सा शिक्षा शुरू की जाएगी।

केंद्र द्वारा हिंदी को विशेष महत्व देने को देखते हुए यह निर्णय लिया गया है। अन्य सभी औपचारिकताएं पूरी करने के बाद अगले सत्र से सरकारी मेडिकल कॉलेजों में हिंदी में एमबीबीएस कोर्स शुरू किया जाएगा।

Vaibhav Patwal

Haldwani news

View all posts by Vaibhav Patwal →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *