Breaking News
Home / उत्तराखंड न्यूज़ / ऐसी आस्था और कहा: शून्य से नीचे तापमान फिर भी बिना कपड़ो के गंगोत्री में साधना करेंगे ये साधु

ऐसी आस्था और कहा: शून्य से नीचे तापमान फिर भी बिना कपड़ो के गंगोत्री में साधना करेंगे ये साधु

गंगोत्री धाम के कपाट सर्दी के कारण अगले चार महीनों के लिए बंद हैं, इस समय गंगोत्री क्षेत्र पूरी तरह से बर्फ से ढका रहेगा, और यहां तापमान बेहद कम रहेगा, लेकिन फिर भी यहां कुछ लोग रहते हैं। हम बात कर रहे हैं 52 साधु-संतों की जो यहां मौजूद रहेंगे और यहां साधना करेंगे।

साधुओं की तपस्या के लिए भर दिए भंडार

इन संतों की साधना को सुविधाजनक और सुरक्षित बनाने के लिए स्थानीय प्रशासन ने भी अद्भुत काम किया है। पुलिस ने सर्दियों में गंगोत्री में रहने वाले साधुओं का सत्यापन किया है। सुरक्षा की दृष्टि से वहां रिकार्ड जुटाया गया है।

रिकॉर्ड होने से एक फायदा यह भी होगा कि आपात स्थिति में समय रहते संतों और संतों की मदद की जा सकती है। रविवार को पुलिस गंगोत्री धाम पहुंची और सत्यापन की प्रक्रिया पूरी की। भोजवासा, तपोवन और कंखू बैरियर में रहने वाले सात संतों का भी सत्यापन होना है।

उनकी सुरक्षा के लिए और घुसपैठिए को भी इंगित करने के लिए यह महत्वपूर्ण कदम उठाया गया है। आपको बता दें कि हर साल सर्दी के दिनों में हर धाम में कई साधु-संत साधना करते हैं। जैसे यहां गंगोत्री से तपोवन तक शून्य से नीचे तापमान में।

इस बार भी 52 साधु-संत साधना के लिए गंगोत्री, कंखू, भोजवासा और तपोवन पहुंचे हैं, लेकिन उनके सत्यापन का काम पहली बार किया गया है. कितने साधु-संत साधना के लिए रुकते हैं, इसका सही आंकड़ा पुलिस और प्रशासन के पास नहीं था।

तीन माह से गंगोत्री क्षेत्र पूरी तरह से बर्फ से ढका रहता है, पीने के पानी के लिए भी बर्फ को पिघलाना पड़ता है, जबकि साधना अवधि के लिए राशन की व्यवस्था पहले से कर ली जाती है.

About Vaibhav Patwal

Haldwani news