Breaking News
Home / उत्तराखंड न्यूज़ / ठण्ड से घबराये उत्तराखंड के 3 विधायक, हाथ जोड़कर कहा नहीं आ सकते गैरसैण

ठण्ड से घबराये उत्तराखंड के 3 विधायक, हाथ जोड़कर कहा नहीं आ सकते गैरसैण

विधानसभा का शीतकालीन सत्र आयोजित होने जा रहा है लेकिन इससे पहले इस बात पर बहस चल रही है कि सत्र गैरसैंण में आयोजित किया जाए या देहरादून में। गर्मी के मौसम में गैरसैंण की पूरी तरह अनदेखी की गई।

सत्र शुरू होने से पहले ही ठंड से घबराए उत्तराखंड के MLA

अब जब ठंड ने दस्तक दे दी है तो चर्चा है कि यहां शीतकालीन सत्र का आयोजन किया जा सकता है. इस मुद्दे पर राजनीति भी शुरू हो गई है। कांग्रेस ने गैरसैंण को नजरअंदाज करने का आरोप लगाते हुए सरकार पर हमला बोला है।

साथ ही कहा कि विधानसभा का सत्र गैरसैंण में होना चाहिए। इस बीच, हरिद्वार के दो विधायकों ने देहरादून में ही शीतकालीन सत्र आयोजित करने का अनुरोध किया है। इनमें से एक लक्सर शहजाद से बसपा विधायक हैं और दूसरे खानपुर के निर्दलीय विधायक उमेश कुमार और यमुनोत्री विधायक संजय डोभाल हैं।

दोनों ने अलग-अलग मुख्यमंत्री को पत्र लिखा है। बसपा विधायक ने पत्र में लिखा है कि गैरसैंण विधानसभा भवन पहाड़ी की चोटी पर बना है और कहा कि वहां ओलावृष्टि, बारिश और हिमपात के कारण जोखिम भरा है।

विधानसभा का शीतकालीन सत्र नवंबर या दिसंबर में प्रस्तावित है। सर्दी का मौसम होने के कारण गैरसैंण में मौसम अधिक ठंडा रहेगा। इसलिए शीतकालीन सत्र का आयोजन देहरादून में ही करना उचित प्रतीत होगा।

निर्दलीय विधायक उमेश कुमार ने लिखा कि जनभावना को देखते हुए विधानसभा का ग्रीष्मकालीन सत्र गैरसैंण में आयोजित करने का प्रस्ताव था, लेकिन यह सत्र देहरादून में हुआ। उन्होंने देहरादून में शीतकालीन सत्र आयोजित करने का भी अनुरोध किया है।

वर्तमान में जिस तरह के हालात हैं, उसे देखते हुए देहरादून में शीतकालीन सत्र आयोजित होने की प्रबल संभावना है. सोमवार को स्पीकर रितु खंडूरी भूषण ने सत्र की तैयारियों को लेकर सर्वदलीय बैठक की. बैठक में विपक्ष ने गैरसैंण में सत्र बुलाने का मुद्दा उठाया।

स्पीकर ने यह कहते हुए सवाल टाल दिया था कि सत्र की तारीख और स्थान राज्य सरकार को तय करना है। माना जा रहा है कि शीतकालीन सत्र 15 नवंबर या उसके बाद की किसी तारीख से शुरू हो सकता है.

About Vaibhav Patwal

Haldwani news