Breaking News
Home / उत्तराखंड न्यूज़ / उत्तराखंड की मानसी नेगी ने रचा इतिहास, 20 km पैदल दौड़ में जीता सोना

उत्तराखंड की मानसी नेगी ने रचा इतिहास, 20 km पैदल दौड़ में जीता सोना

इस बेटी को अगर आप उत्तराखंड की उड़ने वाली परी कहें तो गलत नहीं होगा। अभी तक किसी को इस बात की चिंता नहीं थी कि उत्तराखंड विजेताओं की फौज खड़ी कर रहा है, अब स्थिति यह है कि हर क्षेत्र में विजेता हैं।

चमोली की मानसी ने उत्तराखंड को दिलाया सोना

इन्हीं में से एक नाम है… मानसी नेगी। मानसी नेगी चमोली जिले के मजोठी गांव की रहने वाली हैं। मानसी बहुत गरीब घर से है, लेकिन उसके पास सपने और आत्मा है जो उसे अमीर बनाती है। उन्होंने अपने सपनों को उड़ान दी और मेहनत से मुंह नहीं मोड़ा और एक बार फिर राष्ट्रीय स्तर पर स्वर्ण पदक जीतकर इसे हासिल किया।

एक बात जो इसे और अधिक महान बनाता है, उसने ऐसे आयोजन में वह स्वर्ण पदक जीता, जिसे पूरा करने के लिए कई एथलीट पसीना बहाते हैं। 20 किमी वॉक रेस में गोल्ड मेडल जीतना आसान नहीं है। मानसी के साहस ने इस मुश्किल काम को आसान कर दिया।

उत्तराखंड की इस बेटी ने 1 घंटा 40 मिनट का समय लिया और 20 किमी वॉक रेस में गोल्ड मेडल जीतकर अपने नाम किया। इसी के साथ मानसी ने राष्ट्रीय एथलेटिक्स प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक जीतकर उत्तराखंड का नाम रोशन किया।

अंडर 23 कैटेगरी में मानसी का कोई मुकाबला नहीं है। मानसी नेगी की जीत का सिलसिला जारी है और अब इंतजार है इंटरनेशनल चैंपियनशिप का। मानसी ने राष्ट्रीय स्तर पर कई पदक जीते हैं

इससे पहले मानसी नेगी ने 2021 में राष्ट्रीय खेल में रजत पदक, विश्वविद्यालय स्तर की प्रतियोगिता में रजत पदक जीता था, खेलो इंडिया में राष्ट्रीय स्तर पर स्वर्ण पदक जीता। अब उनका सपना हैं अंतरराष्ट्रीय स्तर पर गोल्ड जीतने का। मानसी नेगी की प्रतिभा से उनके कोच अनूप बिष्ट से अच्छी तरह वाकिफ हैं।

कभी खेतों में अभ्यास करने वाली मानसी की प्रतिभा किसी से छिपी नहीं है। मानसी ने कभी इस बात की परवाह नहीं की कि लोग क्या कहेंगे, अपने कदमों को जीत के कदमों से मिलाते हुए आगे बढ़ती रही। आज मानसी ने राष्ट्रीय स्तर पर कई पदक जीते हैं, लेकिन वह थकी नहीं है, हारी नहीं है, रोती नहीं है, पछताती नहीं है।

About Vaibhav Patwal

Haldwani news