Breaking News
Home / उत्तराखंड न्यूज़ / शहीद सैनिक की बेटी का पिता जैसा बुलंद हौसला, 4 दिन में हरिद्वार से साइकिल में पहुंची केदारनाथ

शहीद सैनिक की बेटी का पिता जैसा बुलंद हौसला, 4 दिन में हरिद्वार से साइकिल में पहुंची केदारनाथ

रुद्रप्रयाग की बेटी प्रीति नेगी ने अपने नाम एक अनोखा रिकॉर्ड बनाया है। उन्होंने महज चार दिनों में साइकिल से हरिद्वार से केदारनाथ पहुंचकर एक नया कीर्तिमान स्थापित किया।

2002 में शहीद हो गए थे पिता, माँ ने बढ़ाया हौसला

प्रीति ने रिस्पेक्ट टू गॉड इवेंट के जरिए 18 अक्टूबर को हरिद्वार से अपने सफर की शुरुआत की थी। उनका 272 किलोमीटर का सफर 21 अक्टूबर को केदारनाथ धाम पहुंचा। प्रीति नेगी की जिंदगी आसान नहीं थी। वह चंद्रनगर की रहने वाली हैं।

रुद्रप्रयाग जिले के तिवारी सेम संघर्ष में बीती थीं। 2002 में परिवार पर दुख के बादल छा गए। जब उनके पिता, हवलदार शहीद गढ़वाल राइफल II में दिवंगत। राजपाल सिंह ने साल 2002 में जम्मू-कश्मीर में आतंकियों से लड़ते हुए देश के लिए अपनी जान कुर्बान कर दी थी।

तब प्रीति की मां भागीरथी देवी ने बच्चों की देखभाल की। प्रीति ने बताया कि पिता के बलिदान की घटना ने परिवार को अंदर तक झकझोर कर रख दिया, लेकिन उन्होंने और उनकी मां ने खुद को कभी कमजोर नहीं होने दिया।

मां भागीरथी देवी अपनी बेटी का हौसला बढ़ाती रहीं। प्रीति कुछ बेहतर करके अपना नाम रोशन करना चाहती थी। उन्होंने बचपन से ही खेल, बाइकिंग, माउंटेन और साइकलिंग में रुचि लेना शुरू कर दिया था और इन क्षेत्रों में उन्होंने खुद को और अपने कौशल को निखारना शुरू कर दिया था।

अगस्त्यमुनि से पढ़ाई के दौरान 2015 में स्टेट बॉक्सिंग खेलने वाली प्रीति ने साल 2016 में माउंटेनियरिंग का बेसिक कोर्स किया था, जिसके बाद वह कई चोटियों पर चढ़ चुकी हैं। उन्होंने 2017 में यूथ फाउंडेशन में बतौर ट्रेनर लड़कियों को ट्रेनिंग भी दी है।साल 2019 में उन्होंने स्की कोर्स किया, दूसरा स्थान हासिल किया और ए ग्रेड हासिल किया।

गाड कार्यक्रम के सम्मान में उन्होने साइकिल से हरिद्वार से केदारनाथ जाने का फैसला किया। इसके माध्यम से पहाड़ की होनहार और जोशीली बेटी प्रीति ने 272 किलोमीटर की इस यात्रा को हरिद्वार से 18 अक्टूबर को शुरू किया और 21 अक्टूबर को केदारनाथ धाम पहुंची।

About Vaibhav Patwal

Haldwani news