February 7, 2023

ऐसा स्टार्टअप आईडिया कही नहीं देखा होगा, उत्तराखंड में युवक ने भांग के पौधे से खड़ी करदी 4 कंपनी दिया हज़ारो को रोजगार

उत्तराखंड क्षेत्र में प्रचुर मात्रा में पाई जाने वाली भांग विदेशों में अपना नाम और गति बना रही है। भारत में भांग केवल चटनी तक ही सीमित नहीं है। आपको जानकर हैरानी होगी कि उत्तराखंड में उगाई जाने वाली भांग की वैश्विक स्तर पर काफी मांग है और इसका इस्तेमाल कई उत्पाद बनाने में किया जाता है।

सिर्फ राज्य तक ही सीमित नहीं विदेशो से भी मिल रहे है बड़े आर्डर

आज हम आपको एक ऐसे व्यक्ति और इस भांग के पौधे की कहानी बताने जा रहे हैं जो विश्व स्तर पर प्रसिद्ध हैं और वे उत्तराखंड की भांग के साथ प्रयोग कर अंतरराष्ट्रीय बाजार में इसका इस्तेमाल कर स्वरोजगार का सृजन कर रहे हैं। हम बात कर रहे हैं उत्तराखंड के अल्मोड़ा के एक युवा लड़के पवित्रा जोशी की जिन्होंने यह साबित कर दिया है कि भांग का इस्तेमाल केवल खाने और नशे के लिए ही नहीं होता है, उन्होंने भांग के बारे में गलत धारणा को तोड़ने का काम किया, जो कि काबिले तारीफ है।

उनका ‘कुमाऊं खंड’ नाम का स्टार्टअप भांग के कई उत्पाद तैयार करता है। उनका सोशल बिजनेस मॉडल धूम मचा रहा है और पवित्रा जोशी के बिजनेस मॉडल को लोग खूब पसंद कर रहे हैं। प्रदेश में न केवल वैश्विक स्तर पर उन्हें विशिष्ट पहचान मिल रही है, बल्कि साथ ही उत्तराखंड का नाम भी रोशन हो रहा है क्योंकि यह व्यवसाय स्वरोजगार के माध्यम से कई लोगों को रोजगार भी प्रदान कर रहा है।

पवित्रा जोशी ने टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज, मुंबई से सामाजिक उद्यमिता में स्नातकोत्तर डिग्री प्राप्त की है। पवित्रा ने बताया कि पढ़ाई के दौरान उन्हें एक प्रोजेक्ट पर काम करने का टास्क मिला। चूँकि उनका विषय सामाजिक विज्ञान से संबंधित था, इसलिए उन्हें एक ऐसा प्रोजेक्ट करना पड़ा जो सामाजिक रूप से था

पवित्रा ने अल्मोड़ा से बागेश्वर तक फील्ड सर्वे शुरू किया। उन्होंने शोध में पाया कि विदेशों में खाद्य उद्योग से लेकर कपड़ा उद्योग तक भांग का उपयोग किया जा रहा है। प्लास्टिक की जगह गांजा के रेशे का इस्तेमाल वाहन बनाने में किया जाता है। इसके बीजों से ईंधन भी बनाया जा रहा है।

इसलिए उन्होंने भांग से ही अपना सोशल बिजनेस स्टार्टअप शुरू किया। पवित्रा ने इस प्रोजेक्ट को कॉलेज टाइम में ही शुरू कर दिया था। एक साल तक पायलट प्रोजेक्ट चलाया और फिर रिसर्च शुरू की। 2019 में उन्होंने भांग का नमक और भांग के बीज का तेल बाजार में उतारा। बहुत ही कम समय में इन दोनों प्रोडक्ट को अच्छा रिस्पोंस मिला। इस तरह उन्होंने और भी कई उत्पाद बनाने शुरू किए।

आज उनके स्टार्टअप में भांग के उत्पाद चार श्रेणियों में उपलब्ध हैं। चार श्रेणियां हैं भोजन, फैशन, निर्माण और व्यक्तिगत और स्वास्थ्य देखभाल। इनके उत्पाद इन चार कैटेगरी में बनते हैं। खाद्य श्रेणी में भांग के बीज का तेल, भांग का नमक, प्रोटीन पाउडर, भांग के दिल शामिल हैं। फैशन श्रेणी में भांग की टी-शर्ट और भांग के मुखौटे शामिल हैं। भांग के पौधे से रेशे निकालकर और उससे धागा बनाकर टी-शर्ट और मास्क तैयार किए जाते हैं। निर्माण श्रेणी में होम स्टे तैयार किया गया है।

उन्होंने बताया कि क्योंकि होम स्टे भांग के डंठल से बना है, यह दीमक को आकर्षित नहीं करता है। आग और पानी भी इसे प्रभावित नहीं करते हैं। इसे बनाने में लागत भी कम आती है। पवित्रा का कहना है कि उत्तराखंड एक पर्यटन स्थल है। यहां कंस्ट्रक्शन कैटेगरी में काफी संभावनाएं हैं। पवित्रा ने बताया कि भांग का पौधा 14 से 20 फीट की ऊंचाई तक पहुंच सकता है। इसकी तुलना बांस के पौधे से की जा सकती है। जिस प्रकार बांस से कई उत्पाद बनाए जाते हैं, उसी प्रकार भांग से 25,000 से अधिक उत्पाद बनाए जा सकते हैं।

भांग के पौधे का रेशे भी काफी मजबूत होता है और इसकी खेती में पानी की खपत कम होती है। जानवर भी इसे नुकसान नहीं पहुंचाते। कुल मिलाकर भांग एक बहुत ही कम रखरखाव वाला पौधा है, लेकिन इससे 25 हजार से अधिक उत्पाद बनाए जा सकते हैं और इसने बाजार में अपनी एक अलग पहचान बनाई है।

Vaibhav Patwal

Haldwani news

View all posts by Vaibhav Patwal →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *