February 6, 2023

Ayodhya: लता मंगेशकर के भजन के साथ होगा अयोध्या में प्रवेश, चौराहे पर बजती रहेगी रामधुन

अयोध्या में सुर साम्राज्ञी लता मंगेशकर चौराहा बनाया जा रहा है. यहां लता मंगेशकर के श्रीराम भजन बजाए जाएंगे. अयोध्या के प्रवेश द्वार निर्माण कार्य तेजी से चल रहा है. अयोध्या में प्रवेश के साथ ही राम भक्तों को भारतरत्न सुर साम्राज्ञी लता मंगेशकर के भजन सुनाई देंगे. मुख्य प्रवेश द्वार पर नया घाट चौराहे को लता मंगेशकर चौराहा घोषित किया गया है. इसके लिए वैश्विक प्रतियोगिता के जरिए डिजाइन का चयन कर उसका प्रेजेंटेशन भी हो चुका है और अब निर्माण कार्य तेजी से किया जा रहा है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की घोषणा के बाद संतों ने लखनऊ में उनके आवास पर मुलाकात कर इस चौराहे को जगतगुरु रामानंदाचार्य का नाम देने की मांग की थी लेकिन मुख्यमंत्री ने साफ मना कर दिया. अयोध्या से बीजेपी विधायक वेद गुप्ता ने कहा कि सीएम योगी ने साफ कहा है कि लता जी ने श्रीराम के बहुत सारे सुंदर भजन गाए हैं और भारतरत्न से विभूषित हैं इसलिए अयोध्या में प्रवेश के पहले उनके भजन बजेंगे. अयोध्या के प्रवेश द्वार पर जो निर्माण कार्य तेजी से चल रहा है यह लता मंगेशकर चौराहे का है. पहले इसे नया घाट चौराहे के नाम से जाना जाता था. राम की पैड़ी के ठीक पहले और सरयू घाट से महज 100 मीटर की दूरी पर यह चौराहा अयोध्या का मुख्य प्रवेश द्वार है. उन्होंने बताया कि चौराहे पर बीचोंबीच एक वीणा खड़ी की जाएगी और उसको चारों तरफ से कवर किया जाएगा. साउंड सिस्टम के जरिए इस तरह की व्यवस्था होगी कि हर समय लता मंगेशकर द्वारा गाए गए भजन बजते रहेंगे. लता मंगेशकर के नाम से चौराहा बनाया जा रहा है और उन्होंने राम के भजन सबसे अधिक गाए हैं और वहां पर रामधुन भी बजाई जाएगी, जिससे पर्यटक आकर्षित होंगे. लता मंगेशकर का जीवन ही संगीत को समर्पित रहा है.

अब रामनगरी Ayodhya में गूंजेगी स्वर कोकिला लता मंगेशकर के भजन…

भगवान राम की नगरी में स्वर कोकिला कही जाने वाली स्वर्गीय लता मंगेशकर के नाम से एक चौराहा बनाया जाना है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लता मंगेशकर के निधन पर घोषणा भी की थी. राम नगरी के प्रमुख चौराहों की तर्ज पर एक चौराहे का नाम लता मंगेशकर रखा जाएगा. जिसमें लता मंगेशकर जी के द्वारा गाए गए भजन और उनकी जीवनी लोगों के लिए आकर्षण का केंद्र होंगी. अयोध्या की ह्रदय स्थली कहे जाने वाला नया घाट अब आगामी दिनों में लता मंगेशकर चौराहे के नाम से मशहूर होगा. इस चौराहे पर आधुनिक सुविधाओं के साथ-साथ श्रद्धालुओं की भी हर सुविधाओं को ध्यान में रखा जाएगा. जिसके लिए नगर आयुक्त ने मुख्यमंत्री के सामने बीते दिनों एक प्रेजेंटेशन पेश किया था. प्रेजेंटेशन को मुख्यमंत्री की सहमति भी मिल गई है. डीबीआर बनाकर बजट के लिए भेजा गया है. जल्द ही लता मंगेशकर चौराहे को डेवलप करने के लिए नया घाट पर काम शुरू कर दिया जाएगा. अयोध्या में जल्द ही विकास की योजनाओं में चार चांद लगाएगा लता मंगेशकर चौराहा. जहां से गुजरने वाले लोगों को मध्यम आवाज में लता मंगेशकर की आवाज में गाए गए भजन सुनने को मिलेंगे तो उनकी उपलब्धियों और जीवन चरित्र के बारे में प्रदर्शित भी किया जाएगा.


जीवन चरित्र और भजनों का होगा रिप्रेजेंटेशन

बात करते हुए नगर आयुक्त विशाल सिंह ने बताया कि, बोर्ड की बैठक के माध्यम से यह निर्णय किया गया है. लता मंगेशकर चौक का निर्माण नया घाट चौराहे पर किया जाए. बोर्ड के नियमों के अनुसार शासन को प्रस्ताव प्रस्तुत किया गया है. उच्च स्तर से यह निर्देश आया है कि, लता मंगेशकर चौराहे को शीघ्र विकसित किया जाए. जिसके लिए साइट सर्वे कर लिया गया है. डिजाइन फाइनल करने का कार्य भी अंतिम पड़ाव पर पहुंच गया है. ऐसे में जल्द ही लता मंगेशकर चौराहे का निर्माण कार्य शुरू करने वाले हैं. चौराहे में लता मंगेशकर के जीवन चरित्र और उनके भजनों को चौराहे पर प्रदर्शित किया जाएगा. 92 वर्षों के जीवन में उन्होंने जिस तरीके से मां सरस्वती की सेवा की उसका रिप्रेजेंटेशन होगा उस पूरे चौराहे को पवित्र रूप से प्रस्तुत किया जाएगा.सरयू घाट से मात्र 200 मीटर दूरी पर स्थित नया घाट चौराहा जहां मुख्यमंत्री के निर्देश पर लता मंगेशकर जी के नाम से चौराहा बनाया जाएगा. चौराहा तक पहुंचने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर आप क्लिक करके आसानी से पहुंच सकते हैं. प्रसिद्ध पार्श्व गायिका दिवंगत लता मंगेशकर को समर्पित लता चौक अयोध्या बाईपास रोड पर नयाघाट पुलिस चौकी के पास बनेगा। लता की याद में बनने वाले इस चौक को इस कदर बनाया जाएगा जिससे उनकी स्मृतियों को संजोया जा सके। इसके लिए योगी सरकार ने अयोध्या में नयाघाट इलाके को पूरी तरह से बदलने की तैयारी शुरू कर दी है। अधिकारियों का दावा है कि इस चौक पर 10 मीटर ऊंची वीणा बनाई जाएगी। खास बात यह है कि इस चौक के लिए 13 राज्यों से 56 डिजाइन आए थे जिनमें से अंतिम तीन को सीएम के सौंपा गया है जिसपर वो अंतिम फैसला लेंगे।अयोध्या विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष का प्रभार संभालने वाले नगर निगम आयुक्त विशाल सिंह ने कहा कि सभी शानदार प्रविष्टियों में से, सर्वश्रेष्ठ तीन का चयन विशेषज्ञों के एक पैनल द्वारा किया गया था। हमने मुख्यमंत्री के सामने सर्वश्रेष्ठ प्रविष्टियां प्रस्तुत कीं और उनकी प्रतिक्रिया मांगी थी जिसमें अंतिम नक्शे का चयन किया जाएगा। जल्द ही लता चौक के निर्माण का काम शुरू किया जाएगा। सीएम की मंशा के अनुरूप इसे शानदार तरीके से तैयार किया |

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *