Breaking News
Home / मोटिवेशनल / किसी फिल्म से कम नही भागलपुर के कमल की कहानी, जिस स्कूल में थे गार्ड वही मिली प्रोफेसर की नौकरी

किसी फिल्म से कम नही भागलपुर के कमल की कहानी, जिस स्कूल में थे गार्ड वही मिली प्रोफेसर की नौकरी

बिहार भारत का एक ऐसा राज्य है जहां अधिकांश आईएएस पैदा होते हैं। यह भी कहा जाता है कि इस प्रकार यह स्थान आधुनिक विश्वविद्यालय का अग्रदूत है। बिहार का युवा शिक्षा के मामले में न केवल बिहार में बल्कि पूरे भारत में मौजूद है। आज हम आपको एक ऐसे शख्स के बारे में बताने जा रहे हैं जिसने दरार नहीं बल्कि कुछ ऐसा ही किया है। जो इन दिनों चर्चा का विषय है। आज हम जिस शख्स की बात कर रहे हैं।

प्रोफेसर बनने से पहले उसी यूनिवर्सिटी में की 17 साल गार्ड की नौकरी

उस शख्स का नाम कमल किशोर मंडल है, जो बिहार के भागलपुर स्थित तिलकामांझी विश्वविद्यालय के असिस्टेंट प्रोफेसर बने हैं। लेकिन इस खबर में एक ट्विस्ट भी है कि कमल किशोर मंडल तिलकमांझी विश्वविद्यालय के सहायक प्रोफेसर बनने पर खबरों में आए, यह कोई बड़ी बात नहीं है क्योंकि हर साल कोई न कोई सहायक प्रोफेसर बन जाता है।

लेकिन कमल किशोर मंडल के सहायक प्रोफेसर बनने के बाद यह बात चर्चा में आ गई। अलग बात यह है कि कमल किशोर मंडल जिस विश्वविद्यालय में प्रोफेसर बनते हैं, यहां वे चौकीदार का काम करते थे। वह उसी विश्वविद्यालय के सहायक प्रोफेसर बन गए हैं।

कमल किशोर मंडल की कहानी किसी फिल्म से कम नहीं है। बताया जा रहा है कि कमल किशोर मंडल 17 साल तक तिलकामांझी विश्वविद्यालय में चौकीदार का काम करता था।

लेकिन गार्ड के साथ उन्होंने अपनी पढ़ाई जारी रखी। इसलिए वे उसी विश्वविद्यालय में सहायक प्राध्यापक बने। उनकी नियुक्ति बिहार राज्य विश्वविद्यालय सेवा आयोग के माध्यम से हुई है। सहायक प्रोफेसर बनने के बाद कमल किशोर काफी खुश हैं।

कमल किशोर नाथ द्वारा मीडिया को दिए एक इंटरव्यू में उनका कहना है कि उनकी सफलता के पीछे उनके परिवार के सदस्यों का बहुत बड़ा हाथ है। इतना ही नहीं उन्होंने कॉलेज में भी उनका काफी सपोर्ट किया है।

About Vaibhav Patwal

Haldwani news