Breaking News
Home / अजब गज़ब / अमेरिका के पास इस धरती की बर्फ के नीचे है अरबो टन का खज़ाना, जिसे पाने के लिए अरबपतियो ने गवां दी अपनी सम्पति

अमेरिका के पास इस धरती की बर्फ के नीचे है अरबो टन का खज़ाना, जिसे पाने के लिए अरबपतियो ने गवां दी अपनी सम्पति

ग्लोबल वार्मिंग के कारण पृथ्वी का तापमान लगातार बढ़ रहा है, जिसका पर्यावरण पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है जिससे विश्व के हिम हिमनद तीव्र गति से पिघल रहे हैं। इसका सबसे ज्यादा असर ग्रीनलैंड पर देखने को मिल रहा है। ग्रीनलैंड के पश्चिमी क्षेत्र में ग्लोबल वार्मिंग के कारण बर्फ के पहाड़ पिघल रहे हैं। वहीं, दुनिया भर के अरबपतियों का एक समूह इस मौके को हाथ से जाने नहीं देना चाहता। और अब इस बर्फ के नीचे खजाने की खोज चल रही है।

ग्लोबल वार्मिंग प्रकृति के लिए खतरा पर पूंजीवाइयो के लिए वरदान

कहा जा रहा है कि इस परियोजना के सफल होने से इन अरबपतियों को बहुत लाभ होगा, साथ ही लोगों को उन क़ीमती सामानों का भी लाभ मिलेगा। ग्रीनलैंड के पश्चिमी तट पर खजाने की खोज की जा रही है।

आपको बता दें कि ग्रीनलैंड एक स्वशासित देश है लेकिन सतह पर यह डेनमार्क द्वारा नियंत्रित है। वैसे यह देश क्षेत्रफल की दृष्टि से दुनिया का 13वां सबसे बड़ा देश है।

एक बड़ा क्षेत्र होने के बाद भी इसका कुल 2 मिलियन वर्ग किलोमीटर क्षेत्र चट्टान और बर्फ से ढका हुआ है। सितंबर में आई रिपोर्ट के मुताबिक इस देश की आबादी सिर्फ 56,990 है. ग्लोबल वार्मिंग का सबसे बुरा असर यहां हो रहा है।

ऐसे में अरबपतियों के इस समूह द्वारा शुरू किए गए विशेष प्रोजेक्ट की काफी चर्चा हो रही है। बिल गेट्स से लेकर जेफ बेजोस तक कई अरबपतियों का मानना ​​​​है कि ग्रीनलैंड के डिस्को द्वीप और नुसुआक प्रायद्वीप में पहाड़ियों और घाटियों के नीचे कीमती सामान है। उन्हें इससे जुड़े कुछ सबूत भी मिले हैं। .

इन मूल्यवान पदार्थों में निकल और कोबाल्ट भी शामिल हैं। इस दुकान को जानेंगे तो दुनिया में एक नई क्रांति आएगी। आपको बता दें कि निकल एक बेहद खास मिश्र धातु है। सबसे पहले यह पूरी तरह से जंग प्रतिरोधी है। इसका उपयोग धातुओं पर सुरक्षात्मक परत बनाने के लिए भी किया जाता है।

इसके अलावा कॉपर निकल मिश्र धातु का उपयोग समुद्री जल शोधन संयंत्र बनाने के लिए किया जाता है। वहीं अगर कोबाल्ट की बात करें तो कोबाल्ट का इस्तेमाल जेट इंजन और टर्बाइन जैसी चीजें बनाने में किया जाता है।

दावा किया जाता है कि ग्रीनलैंड में इतना निकेल और कोबाल्ट है कि वह अरबों इलेक्ट्रिक वाहन चला सकता है। कोबाल्ट मेटल्स के सीईओ कर्ट हाउस ने कहा, “हम एक ऐसे खजाने की तलाश कर रहे हैं जो दुनिया का सबसे बड़ा या दूसरा सबसे बड़ा निकल और कोबाल्ट भंडार हो।

उन्होंने कहा कि क्षेत्र में ट्रांसमीटरों के साथ हाई-टेक हेलीकॉप्टर तैनात किए गए हैं, जो हैं निरंतर सर्वेक्षण कर रहे हैं।उन्होंने कहा कि परियोजना अब तक अच्छी तरह से चल रही है।

 

About Vaibhav Patwal

Haldwani news