Breaking News
Home / मोटिवेशनल / छोटे किराने की पंसारी की दुकान आज है करोड़ों की कंपनी, उतार चढ़ाव से भरी पंसारियों की कहानी

छोटे किराने की पंसारी की दुकान आज है करोड़ों की कंपनी, उतार चढ़ाव से भरी पंसारियों की कहानी

भारत में, आप देख सकते हैं कि किराना स्टोर लगभग में स्थित हैं। इतना ही नहीं, एक मोहल्ले में कई किराना स्टोर हैं, जिसके कारण यह माना जाता है कि किराना दुकान के मालिक ज्यादा कमाई नहीं कर पा रहे हैं।लेकिन आपको पता होना चाहिए कि किराना स्टोर एक ऐसी दुकान है जहां लोग रोजाना सामान खरीदने जाते हैं।

 

यही कारण है कि हर मोहल्ले में कई किराना स्टोर हैं। जब बात किराना स्टोर के सामान की आती है तो ऐसे में सरसों के तेल का नाम जरूर आता है। सरसों का तेल एक ऐसी चीज है जिसका इस्तेमाल लगभग हर दिन होता है इस सरसों के तेल के कई उपयोग हैं।

आपको बता दें कि भारतीय बाजार में सरसों के तेल को ब्रांडेड माना जाता है। आज पंसारी समूह भारत की अग्रणी कंपनी में से एक है। लेकिन एक समय ऐसा भी था जब पंसारी ग्रुप के मालिक ने इसकी शुरुआत एक किराना स्टोर से की थी।

वर्तमान में पंसारी समूह का स्वामित्व शम्मी अग्रवाल के पास है। आपको बता दें कि शमी अग्रवाल के दादा पंसारी ग्रुप के जनक थे। मालूम हो कि राजस्थान के एक छोटे से गांव में शमी अग्रवाल के दादा ने इसकी शुरुआत ”पंसरी की दुकान” के नाम से की थी।

इसकी शुरुआत 1940 में हुई थी। कुछ साल बाद उन्होंने कोलकाता में सरसों के तेल और तेल का कारोबार किया। लेकिन कोलकाता में उन्हें काफी कुछ सहना पड़ा था. जिसके बाद उन्होंने सरसों के तेल का ही कारोबार किया।

मालूम हो कि शमी अग्रवाल के पिता इस धंधे को कोलकाता से दिल्ली लाए थे और उन्होंने वहां दिल्ली में शाखाएं फैलाईं। वर्ष 2005 तक पंसारी समूह की लगभग 7 शाखाएँ खुल चुकी थीं।

वर्तमान में इस समूह के मालिक शम्मी अग्रवाल वर्ष 2010 में इसमें शामिल हुए थे। जिसके बाद उन्होंने इस समूह को और भी अधिक फैलाया और आज पंसारी समूह का सरसों का तेल भारत के लगभग सभी हिस्सों में उपलब्ध है।आपको बता दें कि यह फैसला न सिर्फ फायदे में बदल रहा है बल्कि उन्हें कई बार नुकसान भी हुआ है।

लेकिन इसके बावजूद उन्होंने कभी हार नहीं मानी और नई शुरुआत करते हुए फिर से अपना बिजनेस शुरू किया. यही कारण है कि आज पंसारी समूह पूरे भारत में प्रसिद्ध है।

About Vaibhav Patwal

Haldwani news