Breaking News
Home / देहरादून न्यूज़ / Prakash Jha के बयान पर मच रहा बवाल, उनका कहना है की ‘एक्टर तो गुटखा बेचते है, फुर्सत मिलनें पर घटिया फिल्म बना देते है’।

Prakash Jha के बयान पर मच रहा बवाल, उनका कहना है की ‘एक्टर तो गुटखा बेचते है, फुर्सत मिलनें पर घटिया फिल्म बना देते है’।

बॉलीवुड के जाने माने निर्देशक और एक्टर प्रकाश झा (Prakash Jha) इन दिनों अपनी फिल्म ‘मट्टू की साइकिल’ को लेकर सुर्खियों में बने हुए हैं। उनकी ये फिल्म 16 सितंबर को सिनेमाघरों में रिलीज हो चुकी हैं। फिल्म को अच्छा रिस्पॉन्स मिल रहा है। फिल्म में प्रकाश झा ने एक गरीब, बेबस और मजबूर मजदूर के किरदार में अपने शानदार अभिनय से जो रंग घोला है उसकी काफी तारीफें की जा रही हैं। प्रकाश झा अपने दमदार अभिनय के अलावा अपने बेबाक बयानों को लेकर भी चर्चाओं में रहते हैं। हाल में प्रकाश झा ने एक बार फिर बॉलीवुड स्टार्स और फिल्मों को लेकर अपना गुस्सा जाहिर किया है। इतना ही नहीं इस बार प्रकाश झा ने बॉलीवुड स्टार्स को ‘गुटखा बेचने वाले’ तक बता दिया। दरअसल, अपनी फिल्म के प्रमोशन के लिए प्रकाश झा ने एक न्यूज पोर्टल को अपना इंटरव्यू दिया, जिसके दौरान उन्होंने ‘बायकॉट बॉलीवुड’ से लेकर बॉलीवुड स्टार्स और फिल्मों को लेकर बात की। इंटरव्यू के दौरान एक्टर ने कहा कि ‘बॉलीवुड के सितारे गुटखा बेचने में व्यस्त हैं’। इंटरव्यू के दौरान में प्रकाश झा ने कहा कि ‘फिल्मों के फ्लॉप होने से स्टार्स को कोई फर्क नहीं पड़ रहा है। पिछले 6 महीने से बॉलीवुड का जैसा हाल चल रहा है। दर्शक जिस तरह से फिल्मों पर प्रतिक्रिया दे रहे हैं वो समझ में नहीं आ रहा है’। निर्देशक ने आगे कहा कि ‘हमारे यहां स्टार्स तो आजकल गुटखा बेच रहे हैं। उनको जब फुर्सत मिलती है, तब कोई रिमिक्स या वाहियात फिल्म बना लेते हैं’। साथ ही प्रकाश झा ने बॉलीवुड एक्टर्स को लेकर आगे कहा कि ‘अभिनेताओं को भी ये समझना चाहिए कि लोगों ने उन्हें स्टार बनाया है और एक दिन यही लोग इन्हें डुबो देगी’। उन्होंने कहा कि ‘बॉलीवुड वाले अब अच्छी कहानी लेकर नहीं आ रहे हैं, जबकि साउथ इंडस्ट्री लगातार एक्सपेरिमेंट कर रही है। साउथ के अलावा पंजाबी, तेलुगू, तमिल, बंगाली जैसी रीजनल फिल्मों में भी ऐसा ही है जो दर्शकों को लुभाती हैं। बॉलीवुड में जो भी अच्छी कहानियां देने वाले डायरेक्टर, प्रोड्यूसर, राइटर हैं उन्हें कोई पूछता ही नहीं है’ विडंबना है कि इन्हें भी लगता है कि बड़े स्टार्स की बदौलत किसी भी फिल्म को हिट करा लेंगे, लेकिन दर्शक अच्छी स्टोरी, अपने बीच की कहानी देखना पसंद करते हैं। ये वाकई में दयनीय स्थिति है। इंडस्ट्री को अपने भीतर चिंतन करने की जरूरत है, नहीं तो जिस जनता ने इन्हें स्टार बनाया हैं, वही इन्हें डुबो देगी।

तो क्या बॉलीवुड ने रियल कहानी दिखाना बंद कर दिया है?

बिल्कुल, पिछले 6 महीने से जिस तरह की फिल्में आ रही हैं और दर्शक उसे बायकॉट कर रहे हैं, उससे तो यही लग रहा है। समझ में नहीं आ रहा है कि हिंदी फिल्म इंडस्ट्री किस तरह का कंटेंट तैयार कर रही है? वो क्या बना रही है, क्या सोच रही है? वो जमीन पर है या आसमान में, या बीच में कहीं लटके हुए हैं। जो दर्शकों के सामने परोसा जा रहा है, वो कंटेंट है ही नहीं। डायरेक्टर पैसों और स्टार्स की बदौलत रिमिक्स कंटेंट से फिल्म बना रहे हैं। दरअसल, जो लोग फिल्म बना रहे हैं, उन्हें फिल्म बनाने का कोई पैशन ही नहीं है। कंटेंट नहीं है, तो फिल्म बनाना बंद कर देना चाहिए। OTT प्लेटफॉर्म पर भी आ रहा हिंदी का कंटेंट भी उसी तरह का है। पता नहीं, कैसे अप्रूव किया जा रहा है ।

स्टार्स को सोचने की जरूरत‘

प्रकाश  झा ने एक्टर्स के गुटखा का प्रचार करने पर नाराजगी जताई। अपने हालिया इंटरव्यू में उन्होंने कहा कि फिल्मों के फ्लॉप होने से स्टार्स को कोई फर्क नहीं पड़ रहा है। दैनिक भास्कर के साथ बातचीत में प्रकाश झा कहते हैं, ‘पिछले 6 महीने से जैसा चल रहा है, दर्शक जिस तरह से प्रतिक्रिया दे रहे हैं वह समझ में नहीं आ रहा है। हमारे यहां स्टार्स तो गुटखा बेच रहे हैं आजकल। वो फिल्म नहीं बना रहे हैं। उन्हें फुरसत मिलती है तो रीमेक का राइट्स लेकर वो बना देते हैं। उनको फर्क नहीं पड़ रहा है। आप देखिए आखिर किस तरह की शिक्षा दे रहे हैं हम। जितने बड़े स्टार्स हैं वो सभी गुटखा बेच रहे हैं। उनकी जान तो उसी में अटकी हुई है। उन्हें सोचने की जरूरत है वरना जिस जनता ने उन्हें स्टार बनाया वही डुबो देगी।

 

 

About ads