Breaking News
Home / मोटिवेशनल / रतन टाटा ने खोला सफलता का मंत्र, कुछ बड़ा चाहिए तो इन बातों को स्वीकार करें

रतन टाटा ने खोला सफलता का मंत्र, कुछ बड़ा चाहिए तो इन बातों को स्वीकार करें

हर किसी के जीवन में लक्ष्य होता है लेकिन जीवन में हम में से लगभग हर एक का सबसे बड़ा और सबसे महत्वपूर्ण लक्ष्य सफल होना है। सफलता के लिए लोगों की अलग-अलग योजनाएँ होती हैं, जिसके लिए उन्होंने दिन-रात मेहनत की। कुछ लोग धन चाहते हैं, कुछ प्रसिद्धि चाहते हैं।

 

कुछ अच्छा पारिवारिक जीवन चाहते हैं, कुछ लोग सुख और शांति चाहते हैं, कुछ लोग सफल होते हैं और कुछ नहीं। सफलता आसान नहीं है लेकिन इसे हासिल किया जा सकता है।

अगर आप भी अपने जीवन में सफल होना चाहते हैं तो एक नजर सर रतन टाटा द्वारा दिए गए ’10 सक्सेस टिप्स’ पर।

रतन टाटा का मानना ​​है कि व्यक्ति को अपनी क्षमता की पहचान करनी चाहिए और उसके अनुसार अवसरों और चुनौतियों के अनुसार काम करना चाहिए। आपको आपसे बेहतर कोई नहीं जानता, इसलिए अपनी वर्तमान स्थिति और योग्यता को देखते हुए अवसर का लाभ उठाएं।

2. रतन टाटा का मानना ​​है कि आपको यह स्वीकार करने की क्षमता विकसित करनी होगी कि आप कौन हैं। वास्तविकता को जीने की कोशिश करें और जीवन का तरीका तब तक काम नहीं कर सकता जब तक आप खुद पर विश्वास नहीं करते।

3. इतनी ऊंचाईयों तक पहुंचने के बाद भी रतन टाटा बेहद विनम्र इंसान हैं। वह यह भी कहते हैं कि विनम्रता न केवल आपके व्यक्तित्व को बढ़ाती है बल्कि कई बार आपकी सफलता में भी योगदान देती है।

4. क्या आप जानते हैं रतन टाटा ने अपनी पहली नौकरी कब शुरू की थी? उनका पहला काम टाटा स्टील की भट्टी में कोयला और चूना पत्थर डालना है। लेकिन टाटा ने इसे पूरे संकल्प के साथ किया और आज हम जहां हैं, वह हम सबके सामने है। इसलिए रतन टाटा का हमेशा से मानना ​​है कि कोई भी काम छोटा या बड़ा नहीं होता, उसे पूरे संकल्प और खुशी के साथ एक ही व्यक्ति को करना चाहिए।

5. रतन टाटा का मानना ​​है कि हर किसी की मानसिकता हमेशा ऊंची होनी चाहिए, नहीं तो वे जीवन के रास्ते में पिछड़ जाएंगे। जिस प्रकार लोहे को कोई हानि नहीं पहुँचा सकता, परन्तु उसका स्वयं का ज़ंग उसे नष्ट कर सकता है, उसी प्रकार कोई भी मनुष्य उसे अपनी मानसिकता से नष्ट नहीं कर सकता।

6. रतन टाटा का हमेशा से मानना ​​था कि हमें हर दिन कुछ न कुछ नया करना चाहिए ताकि बाद में पछताना न पड़े। रतन टाटा के शब्दों में, “जिस दिन मैं उड़ नहीं सकता वह मेरे लिए सबसे दुखद दिन होगा।” इसलिए हमें हर दिन कुछ न कुछ करते रहना होगा, तभी हमें भविष्य में उसका असर देखने को मिलेगा।

7. रतन टाटा का मानना ​​है कि अगर आपको कोई काम मुश्किल लगता है तो उसे जरूर करें और उससे कभी पीछे नहीं हटें। कठिनाइयों से कभी मत भागो, जहां संघर्ष है वहां सफलता है।

8. सफलता की कहानियां पढ़ें और सुनिश्चित करें कि आप उनसे सीखते हैं। सफलता की कहानियां पढ़ने से व्यक्ति में एक नई आशा का संचार होता है और उसी से मन में कुछ बड़ा करने की इच्छा पैदा होती है।

About Vaibhav Patwal

Haldwani news