Breaking News
Home / उत्तराखंड न्यूज़ / B.R.O. ने पिथौरागढ़ की मुशिकल करी आसान, सिर्फ 29 दिनों में बना डाला 170 फ़ट लम्बा पुल

B.R.O. ने पिथौरागढ़ की मुशिकल करी आसान, सिर्फ 29 दिनों में बना डाला 170 फ़ट लम्बा पुल

उत्तराखंड से एक दिल जीत लेने देने वाली तस्वीर सामने आई है। यहां बीआरओ की टीम ने ऐसा जादू कर दिया है कि अगर भव्य सलामी दी जाए तो उन्हें हकदार बना दिया जाता है।

 

आपको बता दें कि इसी साल 8 जुलाई को थल-मुनस्यारी मार्ग पर बना द्वालीगढ़ पुल बादल फटने से बह गया था. इसकी जगह अब नया पुल बनाया गया है। यह ब्रिज रिकॉर्ड 29 दिनों में बनकर तैयार हुआ है। आखिरकार अब थल-मुनसारी रोड पर भी यातायात बहाल कर दिया गया है।

ऐसे में बीआरओ टीम ने बनाया पुल जिसे अब आवाजाही के लिए खोल दिए गय है। इससे आम जनता समेत वाहन चालकों के चेहरे पर राहत आई है, जो लंबे समय से वैकल्पिक रास्ता अपनाते थे। इस टीम में 45 मीटर लंबे इस पुल के निर्माण दल में 63 मजदूर और बीआरओ इंजीनियर शामिल हैं।

रामगंगा नदी पुल से मुनस्यारी जाने वाला मार्ग भारत माला रोड के अंतर्गत आता है और इसका संचालन बीआरओ द्वारा किया जा रहा है। बीआरओ ने यहां 16 अगस्त से पुल निर्माण का काम शुरू किया था।

पुल निर्माण के लिए बीआरओ के इंजीनियरों ने 63 मजदूरों के साथ काम शुरू किया। बुधवार को 45 मीटर का पुल बनकर तैयार हो गया और वाहन परीक्षण में पुल के ऊपर से एक वाहन गुजरा। द्वालीगढ़ के पास पुल नहीं होने से बिरथी से मुनस्यारी तक का इलाका सबसे ज्यादा प्रभावित रहा।

8 जुलाई को क्षेत्र में बादल फटने से द्वालीगढ़ नाला उफान पर आ गया और मोटर पुल नदी के बहाव में बह गया। पुल बहने से बिरथी से मुनस्यारी तक का इलाका कुछ दिनों तक सुनसान रहा। बाद में नाले में पत्थर फेंक कर आंदोलन किया गया। स्थानीय जनजीवन भी बुरी तरह प्रभावित हुआ और 150 बच्चे जो रिंका बिरथी जाते थे। इस स्थान पर एक काठ पुल बनाया गया था। नाले से वाहन गुजर रहे थे। वाहनों को धक्का देना पड़ा।

About Vaibhav Patwal

Haldwani news