Breaking News
Home / उत्तराखंड न्यूज़ / पिथौरागढ़ के देबेश जोशी ने किया राज्य का नाम रोशन, अदम्य साहस के लिए मिला गैलेंट्री अवार्ड

पिथौरागढ़ के देबेश जोशी ने किया राज्य का नाम रोशन, अदम्य साहस के लिए मिला गैलेंट्री अवार्ड

पिथौरागढ़ जिले के युवा सेना के जवान कैप्टन देवेश जोशी भारतीय सेना में सेवा दे रहे हैं, हाल ही में उन्होंने राज्य का नाम रोशन किया है और पूरे राज्य को गौरवान्वित किया है। कैप्टन देवेश जोशी ने अपनी जान जोखिम में डालकर झारखंड में कई पर्यटकों को बचाया है। इससे उन्होंने साबित कर दिया है कि एक सैनिक के जीवन में देश और लोगों की सुरक्षा से बढ़कर कुछ भी नहीं है। कैप्टन देवेश जोशी ने रोपवे के बीच में फंसे यात्रियों को बचाने के लिए अदम्य साहस और बहादुरी दिखाई है।

15 अगस्त 2022 को उन्हें हमारे नवनिर्वाचित राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू द्वारा उनके साहस, वीरता और उत्कृष्ट कार्य के लिए वीरता पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। उन्हें यह वीरता पुरस्कार झारखंड के देवघर में रोपवे में फंसे यात्रियों को सफलतापूर्वक निकालने के लिए ऑपरेशन चित्रकूट की सफलता के लिए दिया गया था।

हाल ही में झारखंड में 17 अलग-अलग रोपवे के फेल होने से कई यात्री रोपवे के बीच में फंस गए थे, जिसमें बच्चे, बुजुर्ग, महिलाएं और पुरुष सवार थे. इसके बाद भारतीय सेना द्वारा ऑपरेशन चित्रकूट चलाया गया, लेफ्टिनेंट देवेश जोशी ने अपनी टीम के कुशल नेतृत्व और साहस का परिचय देते हुए सभी यात्रियों की जान बचाई और इसीलिए द्रौपदी मुर्मू ने उन्हें 15 अगस्त को वीरता पुरस्कार प्रदान किया।

इस पुरस्कार को प्राप्त करने के बाद उनके गांव और उनके परिवार में खुशी का माहौल है और सेना को समर्पित उत्कृष्ट कार्य करने के लिए इस वीरता पदक के बारे में जानकर सभी दोस्त गर्व महसूस कर रहे हैं। कैप्टन देवेश जोशी मूल रूप से गंगोला जिले पिथौरागढ़ के रहने वाले हैं और उनके पिता राज इंटर कॉलेज में शिक्षक हैं और मां गृहिणी हैं. मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने भी कैप्टन देवेश जोशी को उनकी इस उपलब्धि पर बधाई दी है।

About Vaibhav Patwal

Haldwani news