Breaking News
Home / उत्तराखंड न्यूज़ / UKSSSC पेपर लीक मामले में पुलिस को मिले अहम सबूत, ये दोनों परीक्षाएं भी संदेह के घेरे में

UKSSSC पेपर लीक मामले में पुलिस को मिले अहम सबूत, ये दोनों परीक्षाएं भी संदेह के घेरे में

आपको इस बात की जानकारी होनी चाहिए कि उत्तराखंड अधीनस्थ चयन सेवा आयोग द्वारा आयोजित स्नातक स्तर की परीक्षा की जांच एसटीएफ द्वारा की जा रही है। इस मामले में अब तक 19 गिरफ्तारियां हो चुकी हैं। अब सचिवालय गार्ड और कनिष्ठ सहायक (न्यायिक) परीक्षाओं के दस्तावेज सत्यापन की जो परीक्षा पहले हुई थी, वह भी संदेह के घेरे में है. ऐसे में उनकी जांच भी एसटीएफ को सौंपी जा रही है। उत्तराखंड के पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार ने बताया कि यूकेएसएसएससी द्वारा आयोजित स्नातक स्तर की परीक्षा की जांच एसटीएफ कर रही है।

इसके अलावा उत्तराखंड के पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार ने बताया कि वर्ष 2020 में उत्तराखंड पुलिस ने फॉरेस्ट गार्ड (फॉरेस्ट गार्ड) परीक्षा में ब्लूटूथ के माध्यम से ठगी करने वाले गिरोह को पकड़ा था, जिसके संबंध में हरिद्वार और पौड़ी में प्राथमिकी दर्ज की गयी है. गढ़वाल जिले. इन आरोपों को एसटीएफ ने दोबारा जांच के लिए भी निर्देशित किया है।

दूसरी ओर पेपर लीक मामले, उत्तर प्रदेश के नकल माफिया के साथ नकल माफिया के तार। इस मामले में अब धामपुर निवासी कनिष्ठ अभियंता ललित राज शर्मा को गिरफ्तार किया गया है. आरोप है कि ललित राज शर्मा के धामपुर स्थित फ्लैट में दो दर्जन से अधिक छात्रों ने परीक्षा की पहली रात ही पेपर लीक के सवालों को हल किया था. जालसाजी के अड्डे पर उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश के लोग जमा हुए थे।

22 जुलाई को मुख्यमंत्री के निर्देश पर इस संबंध में रायपुर थाने में मामला दर्ज किया गया था. फिर इसकी जांच एसटीएफ को सौंपी गई। इसके बाद से एसटीएफ कड़ियों को जोड़कर पूरे मामले की जांच में जुटी है. परीक्षा का पेपर लीक करने वाले को भी एसटीएफ ने गिरफ्तार किया है। वह आयोग की आउटसोर्स कंपनी RMS Solutions के कर्मचारी भी थे। इसकी जिम्मेदारी थी कि पेपर छपने के बाद उसे सील कर दिया जाए, लेकिन शातिर ने टेलीग्राम एप के जरिए तीनों शिफ्टों में से एक-एक सेट अपने साथियों को भेज दिया।

About Vaibhav Patwal

Haldwani news