Breaking News
Home / अजब गज़ब / क्या है भारतीय मुद्रा के हर नोट पर छपे इस नोट का महत्व: आइये जाने

क्या है भारतीय मुद्रा के हर नोट पर छपे इस नोट का महत्व: आइये जाने

हमें प्रतिदिन बाजार से कुछ न कुछ खरीदना पड़ता है और हम उन्हें मुद्रा नोटों का आदान-प्रदान करते हैं। देश में मौजूद नोटों की कीमत के लिए आरबीआई गवर्नर जिम्मेदार होता है। एक रुपये के नोट को छोड़कर हर नोट पर आरबीआई गवर्नर यानी ‘भारतीय रिजर्व बैंक’ के हस्ताक्षर होते हैं, क्योंकि एक रुपये के नोट पर भारत के वित्त सचिव के हस्ताक्षर होते हैं।

आइए आज हमारे करेंसी नोटों के कुछ इतिहास के बारे में जानें। आपको बता दें कि साल 1935 से पहले करेंसी की छपाई की जिम्मेदारी भारत सरकार के पास थी। इसके बाद 1 अप्रैल 1935 को भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) की स्थापना हुई जिसका मुख्यालय मुंबई में बना और भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) अधिनियम, 1934 के आधार पर RBI को मुद्रा प्रबंधन की भूमिका दी गई। महत्वपूर्ण रूप से, भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) अधिनियम की धारा 22; यह रिजर्व बैंक को नोट जारी करने का अधिकार देता है।

आपने 10, 20, 100, 500, 2000 के नोटों पर एक लिखित लिखा देखा होगा, जो इस प्रकार है ‘मैं धारक को 100 रुपये देने का वादा करता हूं’। इसके साथ ही नोट पर आरबीआई गवर्नर के हस्ताक्षर भी होते हैं। अब यह जानना जरूरी है कि नोट पर ऐसा क्यों लिखा हुआ है। भारत में नोटों की छपाई मिनिमम रिजर्व सिस्टम के आधार पर की जाती है।

आरबीआई धारक को आश्वस्त करने के लिए एक बयान लिखता है कि यदि आपके पास 200 रुपये का नोट है, तो इसका मतलब है कि रिजर्व बैंक के पास आपका 200 रुपये का सोना भंडार है। अन्य नोटों पर भी कुछ ऐसा ही लिखा है यानी आपके नोटों की कीमत के बराबर सोना आरबीआई के पास सुरक्षित है। यानी इस बात की गारंटी है कि 100 या 200 रुपये के नोट के लिए धारक पर 100 या 200 रुपये की देनदारी है। यह नोटों के मूल्य के प्रति आरबीआई की प्रतिबद्धता है।

About Vaibhav Patwal

Haldwani news