Breaking News
Home / उत्तराखंड न्यूज़ / बेटा फौज में सैनिक और माँ बनी अपने इलाके की मिसाल, बुलंद हौसले को कर रहे सब सलाम

बेटा फौज में सैनिक और माँ बनी अपने इलाके की मिसाल, बुलंद हौसले को कर रहे सब सलाम

मुश्किलें कैसी भी हों, एक बार ठान लें तो सब कुछ आसान हो जाता है, कुछ ऐसा ही किया है पहाड़ की एक साहसी महिला कमला नेगी ने, राज्य की इस महिला में पहाड़ जैसी बुलंद हौसले हैं। जी हां.. वैसे आज प्रदेश की महिलाएं किसी भी क्षेत्र में पीछे नहीं हैं। वह हर क्षेत्र में पुरुषों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चल रही हैं। लेकिन मूल रूप से प्रदेश के नैनीताल जिले की रहने वाली कमला सबसे आगे हैं।

मैकेनिक का काम जहां इसे पुरुषों का एकाधिकार माना जाता है। भारी टायर, उठाने वाले हिस्से जहां पुरुषों की भी हालत खराब हो जाती है। 54 साल की कमला उसी काम को बड़े चाव से करती हैं। वैसे ये उनकी मजबूरी नहीं बल्कि शौक है।

जिसके कारण आज वह आयरन लेडी, टायर डॉक्टर और डॉक्टर दीदी जैसे कई नामों से पूरे इलाके में मशहूर हैं। सबसे खास बात यह है कि वह 54 साल की हो सकती हैं, लेकिन उनकी काम करने की क्षमता, फुर्ती और जुनून हर किसी को अपना दीवाना बनाने के लिए काफी है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार कमला नेगी, जो मूल रूप से नैनीताल जिले के रामगढ़ विकासखंड के ओडाखान गांव की रहने वाली है. यह महिला सालों से अपने ही गांव में ऑटोमोबाइल मैकेनिक चला रही है। अपनी दुकान में वह न केवल छोटे से लेकर बड़े वाहनों जैसे जेसीबी के टायर पंक्चर को आसानी से जोड़ती हैं, बल्कि दोपहिया वाहनों की सर्विसिंग भी बहुत अच्छी तरह करती हैं।

यही कारण है कि दोपहिया वाहनों की सर्विसिंग के लिए दूर-दूर से लोग सर्विस सेंटर जाने के बजाय उनकी दुकान पर आते थे। बता दें कि सभी को अपने काम का फैन बनाने वाले कमला के पति हयात खेत मजदूर का काम करते हैं जबकि उनका बेटा सीमा सुरक्षा बल में तैनात है. आपको बता दें कि इस काम के लिए उन्हें तमाम संस्थाओं से प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया जा चुका है. इतना ही नहीं इस समय वह एक एनजीओ में अध्यक्ष की जिम्मेदारी भी संभाल रही हैं।

About Vaibhav Patwal

Haldwani news