Breaking News
Home / उत्तराखंड न्यूज़ / बारिश ने चारधाम पर लगाया ब्रेक, बद्रीनाथ में यात्री रोके

बारिश ने चारधाम पर लगाया ब्रेक, बद्रीनाथ में यात्री रोके

पूर्वानुमान के मुताबिक पर्वतीय क्षेत्रों में लगातार हो रही बारिश ने चारधाम यात्रा का कार्यक्रम पूरी तरह से अस्त व्यस्त कर दिया है। भारी बारिश के कारण बसों और अन्य वाहनों की आवाजाही पूरी तरह ठप है। पहले बद्रीनाथ हाईवे बेनाकुली, राडांग बंद, लंबागढ़ नाला और खाचड़ा नाला जैसे कई स्थानों पर बंद रहता है, जिससे बद्रीनाथ यात्रा ठप हो गई है। रुद्रप्रयाग में भी बारिश मुश्किलें बढ़ा रही है, हालांकि इस समय यहां केदारनाथ यात्रा जारी है।

दूसरी ओर ऋषिकेश-गंगोत्री हाईवे सहित जिले के प्रमुख मोटर मार्गों पर यातायात सामान्य रूप से चल रहा है। उत्तरकाशी के बड़कोट में जानकीचट्टी यमुनोत्री पैदल मार्ग पर दूसरे दिन भी श्रद्धालु जोखिमपूर्ण आवाजाही कर रहे हैं। यहां भारी बारिश के कारण छह किलोमीटर लंबा यमुनोत्री पैदल मार्ग मलबे, शिलाखंडों से प्रभावित है. बारिश से नदियों का जलस्तर बढ़ गया है। कई जगहों पर नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं। श्रीनगर, रुद्रप्रयाग और कर्णप्रयाग में अलकनंदा खतरे के निशान से ऊपर बह रही है।

वहीं टिहरी झील का जलस्तर आरएल 770.45 मीटर तक पहुंच गया है. आवश्यकता पड़ने पर झील से 185 क्यूमेक पानी छोड़ा जा रहा है। टिहरी में भारी बारिश के बाद बाल गंगा नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है. प्रशासन ने अलर्ट जारी कर दिया है। हरिद्वार में गंगा नदी का जलस्तर बढ़ गया है। पहाड़ों पर लगातार हो रही बारिश से गंगा नदी का जलस्तर चेतावनी के करीब पहुंच गया है. फिलहाल गंगा भीमगोड़ा बैराज में 292 के करीब बह रही है, जबकि गंगा का चेतावनी स्तर 293 है।

इस वजह से यूपी सिंचाई विभाग के अधिकारी गंगा के जल स्तर पर नजर रख रहे हैं क्योंकि इससे राम गंगा नाहर का प्रवाह भी प्रभावित होगा. गंगा का जलस्तर बढ़ने पर जिला प्रशासन ने बाढ़ चौकियों और एसडीआरएफ की टीम को भी अलर्ट मोड पर रखा है. मौसम विज्ञानियों का कहना है कि अगर इसी तरह बारिश जारी रही तो शाम तक गंगा का जलस्तर और बढ़ सकता है। उधर, रुद्रप्रयाग और चमोली जैसे जिलों में आज तड़के बारिश हुई। कुछ जिलों में आसमान में बादल छाए हुए हैं। जबकि मैदानी इलाकों में मौसम साफ है

About Vaibhav Patwal

Haldwani news