Breaking News
Home / उत्तराखंड न्यूज़ / उत्तराखंड रोडवेज को झटका, राज्य की 200 बसों को दिल्ली में घुसने की अनुमति नहीं

उत्तराखंड रोडवेज को झटका, राज्य की 200 बसों को दिल्ली में घुसने की अनुमति नहीं

कुमाऊं रोडवेज की करीब 90 फीसदी बसों को दिल्ली सीमा में प्रवेश की अनुमति नहीं है। बताया जा रहा है कि रोडवेज की 250 में से करीब 200 बसें 1 अक्टूबर से दिल्ली नहीं जा सकेंगी। आइए आपको बताते हैं इसकी वजह। हाल ही में दिल्ली परिवहन विभाग के विशेष आयुक्त ओपी मिश्रा की ओर से उत्तराखंड परिवहन निगम को पत्र भेजा गया था. इस पत्र में लिखा गया था कि 10 साल से पुराने डीजल वाहनों को एनसीआर में प्रवेश नहीं करने दिया जाएग|

दिल्ली और एनसीआर में वायु प्रदूषण की स्थिति को ध्यान में रखते हुए एनजीटी ने निर्देश दिया है कि 1 अप्रैल 2020 से दिल्ली में बीएस-4 वाहनों की बिक्री नहीं होगी, केवल बीएस-6 वाहनों का संचालन होगा. पत्र में बताया गया कि दिल्ली का पूरा सार्वजनिक परिवहन सीएनजी आधारित है।

इसलिए 1 अक्टूबर से किसी भी राज्य की बीएस-4 बस को दिल्ली में प्रवेश की अनुमति नहीं है, केवल बीएस-6 रोडवेज की बसें ही दिल्ली की सीमा में प्रवेश कर सकती हैं। बता दें कि बीएस-6 इंजन से लैस वाहनों में एक खास फिल्टर होता है, जो प्रदूषण को काफी हद तक रोकने में सक्षम है। दिल्ली में लगातार बढ़ती प्रदूषण की समस्या को देखते हुए दिल्ली सरकार ने राज्य में केवल बीएस-6 इंजन से लैस वाहनों को ही प्रवेश की अनुमति देने का फैसला किया है।

दिल्ली सरकार के निर्देश को देखते हुए निगम ने इसकी तैयारी भी शुरू कर दी है. उत्तराखंड से दिल्ली के लिए लगभग 250 बसें चलती हैं, जिनमें से लगभग 50 ऐसी बसें हैं जिनमें मुश्किल से 22 वोल्वो और कुछ अन्य बसें शामिल हैं, जो दिल्ली में प्रवेश के मानकों को पूरा करती हैं। अब निगम 140 से ज्यादा नई बसें खरीदने की तैयारी में है, इसके लिए टेंडर निकाला गया है।

About Vaibhav Patwal

Haldwani news