Breaking News
Home / ऋषिकेश न्यूज़ / ऋषिकेश में सास -ससुर ने सवारी अपनी बहू की ज़िन्दगी, करवाई विधवा बहू की दूसरी शादी

ऋषिकेश में सास -ससुर ने सवारी अपनी बहू की ज़िन्दगी, करवाई विधवा बहू की दूसरी शादी

कहते हैं विचारों में आधुनिकता होनी चाहिए। और इस बार उत्तराखंड में लोगों ने कुछ ऐसा ही दिखाया है कि उन्होंने रूढि़वादी संस्कृति को तोड़ा था, इंसान में सोचने और भावनाओं की शक्ति खत्म हो गई है, रिश्तों की भावनाएं गौण हो गई हैं। आए दिन बहू पर अत्याचार और ससुराल में दहेज हत्या जैसे छोटी-छोटी बातों को लेकर परिवार में विवाद होने की खबरें आती रहती हैं। लेकिन आज की खबर में हम आपको ऐसी कहानी बताएंगे कि एक सास ने अपनी विधवा बहू के जीवन को खूबसूरत बनाने के लिए क्या किया, आप भी उसकी सोच को सलाम करेंगे।

ऋषिकेश के खैरीखुर्द के रहने वाले एक दंपत्ति ने अपना जीवन साधारण तरीके से व्यतीत किया, लेकिन कुछ समय बाद उनके बेटे की मृत्यु हो गई, और अपने परिवार को छोड़ दिया, लेकिन लड़की के ससुराल वालों ने अपनी बहू की शादी करवा दी और उसे एक बेटी के रूप में विदा कर दिया। शहर में रहने वाले आनंदस्वरूप लखेड़ा के बेटे प्रशांत लखेड़ा की 24 नवंबर 2020 को कंचन से शादी हुई थी. कोरोना संक्रमण के चलते शादी के छह महीने बाद ही 26 मई 2021 को अचानक प्रशांत की मौत हो गई. उनकी बहू कंचन महज 25 साल की उम्र में विधवा हो गई थी।

अपनी बहू के अकेलेपन को देखकर लखेड़ा दंपत्ति ने कंचन को अपने जीवन को एक नए तरीके से शुरू करने के लिए प्रोत्साहित किया। इसके बाद वे उसके लिए रिश्ते की तलाश करने लगे। बात बढ़ी तो उसे देहरादून के विकासनगर निवासी हिमाचल प्रदेश हॉल हमीरपुर निवासी सुशील डोगरा ने पसंद किया। 24 जून शुक्रवार को सत्यनारायण मंदिर में आयोजित सादे समारोह में कंचन और सुशील ने सात फेरे लिए|

शादी में शामिल होने आए सभी लोग लखेड़ा दंपति के प्रयासों और उनकी सोच की सराहना करते नजर आ रहे हैं. आपको बता दें कि इसी तरह की शादी साल 2020 में ऋषिकेश में हुई थी। फिर मायाकुंड निवासी गोविंद भारद्वाज और बाला देवी ने भी अपनी विधवा बहू जमुना की शादी करा दी। गोविंद भारद्वाज के बेटे सिद्धार्थ की सड़क हादसे में मौत हो गई थी. जिसके बाद सास ने बहू की दोबारा शादी कराकर एक मिसाल कायम की थी।

About Vaibhav Patwal

Haldwani news