Breaking News
Home / उत्तराखंड न्यूज़ / केदारनाथ की दूरी होगी अब 25 मिनट में पूरी, हेमकुंड और केदारनाथ रोपवे को मिली मंजूरी

केदारनाथ की दूरी होगी अब 25 मिनट में पूरी, हेमकुंड और केदारनाथ रोपवे को मिली मंजूरी

आने वाले समय में केदारनाथ की यात्रा काफी सुविधाजनक होगी और बहुत ही कम समय में यात्रा की जाएगी। यहां सरकार रोपवे बनाने की योजना बना रही है जो केदारनाथ, हेमकुंड साहिब और चंडी देवी में श्रद्धालुओं के लिए उपलब्ध होगा। जी हां उत्तराखंड राज्य वन्यजीव बोर्ड ने श्रद्धालुओं को राहत की खबर दी है। केदारनाथ, हेमकुंड साहिब और चंडी देवी रोपवे को आखिरकार हरी झंडी दे दी गई है। अब इस प्रस्ताव को मंजूरी के लिए राष्ट्रीय वन्यजीव बोर्ड के पास भेजा जाएगा। रोपवे बनने से श्रद्धालुओं को काफी राहत मिलेगी।

मंगलवार को मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी की अध्यक्षता में हुई वन्यजीव बोर्ड की बैठक में इन तीनों समेत कई प्रस्तावों को मंजूरी दी गई. आपको बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इससे पहले केदारनाथ और हेमकुंड साहिब रोपवे के निर्माण की घोषणा की थी। अब उनकी रचना के सामने सबसे बड़ी बाधा दूर हो गई है।

दरअसल रोपवे की यह योजना सोनप्रयाग से केदारनाथ धाम के लिए पहले से ही प्रस्तावित है। इस रोपवे में गौरीकुंड, चिरबासा, लिनचोली में तीन स्टेशन होंगे। केदारनाथ में रोपवे बनने के बाद केदारनाथ धाम की दूरी सोनप्रयाग से 25 मिनट में पहुंच जाएगी। इस परियोजना के लिए केदारनाथ वन्य जीव मंडल की लगभग 26.43 हेक्टेयर वन भूमि की आवश्यकता होगी, जो इसके क्षेत्र में आ रहा है। इससे फूलों की घाटी की करीब 27.4 हेक्टेयर भूमि हेमकुंड रोपवे में बन रही है।

इसके साथ ही चंडीदेवी मंदिर के लिए प्रस्तावित रोपवे निर्माण के लिए राजाजी पार्क की 29 हेक्टेयर भूमि की भी आवश्यकता है। यह रोपवे दीनदयाल उपाध्याय पार्क (हरकी पैड़ी के पास) से बनाया जाना है। केदारनाथ रोपवे की लंबाई 13 किमी होगी। 12.5 किमी हेमकुंड साहिब रोपवे और चंडीदेवी रोपवे की लंबाई 2.13 किमी प्रस्तावित है। इनके निर्माण से केदारनाथ और हेमकुंड जाने वाले श्रद्धालुओं को काफी राहत मिलेगी।

About Vaibhav Patwal

Haldwani news