Breaking News
Home / उत्तराखंड न्यूज़ / उत्तराखंड के क्रिकेटर्स की हालत मजदूरो से भी बुरी, एक दिन के पैसे मजदूर की दिहाड़ी से 80% काम

उत्तराखंड के क्रिकेटर्स की हालत मजदूरो से भी बुरी, एक दिन के पैसे मजदूर की दिहाड़ी से 80% काम

गुरुवार को रणजी ट्रॉफी में उत्तराखंड की हार सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रही है क्योंकि मुंबई ने उत्तराखंड के खिलाफ रिकॉर्ड जीत दर्ज की है। मैच में मुंबई ने उत्तराखंड की टीम को 725 रनों से मात दी और जो सबसे बड़ी जीत का विश्व रिकॉर्ड है। वहीं उत्तराखंड की टीम 114 और फिर 69 रन ही बना सकी। गुरुवार को हर जगह उत्तराखंड की हार की चर्चा हो रही थी, लेकिन जरा सोचिए कि उन खिलाड़ियों का हाल क्या है जो मैदान में प्रवेश करने से पहले ड्रेसिंग रूम में भूखे मर रहे थे, क्योंकि उन्हें दैनिक भत्ता नहीं मिलता था|

हैरानी की बात यह है कि राज्य में इन खिलाडिय़ों की हालत इतनी खराब है कि उन्हें प्रतिदिन केवल 100 रुपये दैनिक भत्ता दिया जा रहा है, जो एक मजदूर के दैनिक भत्ते से भी कम है। क्वार्टर फाइनल में पहुंचने से पहले टीम को भूख से जूझना पड़ा। टीम मैनेजर से DA के बारे में पूछने पर जवाब था ‘अरे ये सवाल बार-बार क्यों पूछते हो भाई? जब तक पैसा नहीं आएगा तब तक स्विगी या जोमैटो से मत लेना…” तमाम मीडिया रिपोर्ट्स में उत्तराखंड की क्रिकेट टीम को लेकर चौंकाने वाले खुलासे हुए हैं|

रिपोर्ट्स के मुताबिक, उत्तराखंड के हर सीनियर खिलाड़ी के लिए दैनिक भत्ता 1500 रुपये तय किया गया है, जिसे बढ़ाकर 2000 रुपये कर दिया गया, लेकिन हकीकत कुछ और है, पिछले एक साल में क्रिकेटरों को मुश्किल से ही 100 रुपये मिल पाए हैं. प्रति दिन औसतन। टीम चयन से लेकर फंड प्रबंधन तक उत्तराखंड क्रिकेट संघ पर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगे हैं। खिलाड़ियों ने उत्तराखंड क्रिकेट संघ (सीएयू) द्वारा 31 मार्च 2021 को समाप्त होने वाले वित्तीय वर्ष की ऑडिट रिपोर्ट पर भी आपत्ति जताई थी।

उन्होंने कहा कि खिलाड़ियों को मैच फीस या दैनिक भत्ता नहीं दिया जाता था. दूसरी ओर, सीएयू ने ‘टूर्नामेंट और ट्रायल कैंप खर्च’ खंड में भोजन और खानपान पर 1,74,07,346 रुपये, केले खरीदने पर 35 लाख रुपये और पानी की बोतलों पर 22 लाख रुपये खर्च करने का दावा किया है, लेकिन जब बात आती है खिलाड़ियों को डीए का भुगतान करने का नजारा बिल्कुल अलग है। खिलाड़ियों ने प्रबंधन पर मानसिक प्रताड़ना का भी आरोप लगाया है।

About Vaibhav Patwal

Haldwani news