Breaking News
Home / उत्तराखंड न्यूज़ / उत्तराखंड के इस जगह का बदलेगा नाम, पतंजलि और उत्तराखंड सरकार मिल कर करेगी काम

उत्तराखंड के इस जगह का बदलेगा नाम, पतंजलि और उत्तराखंड सरकार मिल कर करेगी काम

चंपावत के उपचुनाव में सीएम पुष्कर सिंह धामी ने बहुमत से जीत हासिल की तो अब वह पूरे मोड में नजर आ रहे हैं. उत्तराखंड के कोटद्वार क्षेत्र का नाम अब बदला जाएगा और इसे कांवड़वार के नाम से जाना जाएगा। यह स्थान भारत जन्मस्थली, खेल स्थल, माता शकुंतला का साधना स्थल, कालिदास के साहित्यिक सृजन स्थल और सिद्धबली क्षेत्र को सरकार और पतंजलि योगपीठ के सहयोग से विश्वस्थली के रूप में विकसित किया जाएगा। यह बात विधानसभा अध्यक्ष रितु भूषण खंडूरी ने हरिद्वार में आयोजित एक कार्यक्रम में कही।

शुक्रवार को विधानसभा अध्यक्ष रितु भूषण खंडूरी पतंजलि योगपीठ पहुंचीं, जहां उन्होंने आचार्य बालकृष्ण से मुलाकात की, जो पतंजलि योगपीठ के महासचिव हैं। इस दौरान आचार्य ने रितु भूषण खंडूरी को गुलदस्ता और रुद्राक्ष की माला भेंट कर उनका भव्य स्वागत किया। बैठक के दौरान विधानसभा अध्यक्ष रितु भूषण खंडूरी ने चरक ऋषि के कार्य स्थल चरकदंडा और कण्वाश्रम के प्राचीन वैभव और भव्यता को फिर से स्थापित करने पर चर्चा की|

विधानसभा अध्यक्ष एवं कोटद्वार विधायक ऋतु भूषण खंडूरी ने पतंजलि योगपीठ स्थित कई परियोजनाओं का दौरा कर पतंजलि की सेवा गतिविधियों का जायजा लिया. इस मौके पर आचार्य बालकृष्ण ने कहा कि पूर्व सीएम भुवन चंद्र खंडूरी को पतंजलि से अनन्य प्रेम है. रितु भूषण खंडूरी भी अपने पिता की तरह एक निडर और सफल नेता हैं।

अब पतंजलि योगपीठ उत्तराखंड सरकार के साथ मिलकर कोटद्वार को सिद्धबली, कांवड़वार क्षेत्र के रूप में विकसित कर रहा है। भारत के प्राचीन वैभव को बहाल करने के लिए बड़े कदम उठाए जाएंगे। पतंजलि योगपीठ भारत की प्राचीन संस्कृति, परंपरा के संरक्षण और संवर्धन के क्षेत्र में महान कार्य कर रहा है। इसमें कोटद्वार के ऐतिहासिक स्थलों के विकास और पहचान का काम किया जाएगा।

About Vaibhav Patwal

Haldwani news