Breaking News
Home / उत्तराखंड न्यूज़ / घर की परेशानियों को नहीं अने आगे, 6 KM चलकर स्कूल जाने वाले आयुष किया उत्तराखंड टॉप

घर की परेशानियों को नहीं अने आगे, 6 KM चलकर स्कूल जाने वाले आयुष किया उत्तराखंड टॉप

उत्तराखंड के पहाड़ी इलाकों में शिक्षा प्राप्त करना इतना आसान नहीं है। इसके पीछे मुख्य कारण यह है कि विद्यालय भवन अधिकांश तहसीलों से काफी दूर है। कहने को तो दुनिया चांद पर पहुंच गई है, लेकिन हमारे गांवों के बच्चे अच्छी शिक्षा से बहुत दूर हैं. बच्चों को अभी भी स्कूल जाने के लिए कई किलोमीटर का सफर तय करना पड़ता है। अब उत्तरकाशी के आयुष अवस्थी को ही देखिए, जिन्हें स्कूल पहुंचने के लिए रोजाना छह किलोमीटर पैदल चलना पड़ता है। आयुष अवस्थी 10वीं कक्षा में राज्य में दूसरा स्थान हासिल करने वाले छात्र हैं। आयुष सुदूर गांव जसपुर का रहने वाला है।

अपनी पढ़ाई जारी रखने के लिए, आयुष को जसपुर से सुमन ग्राम स्कूल, ब्रह्मखल तक छह किलोमीटर की यात्रा करनी होगी। उनके पिता द्वारका प्रसाद अवस्थी पिछले चार साल से ऑलवेदर रोड कंस्ट्रक्शन कंपनी के कर्मचारी हैं, घर में दो छोटी बहनें हैं। परिवार में आर्थिक और मानसिक रूप से तमाम तरह की परेशानियां हैं, लेकिन आयुष ने कभी हिम्मत नहीं हारी। उन्होंने रात में दो घंटे घर पर नियमित रूप से पढ़ाई की और बिना ट्यूशन के ही राज्य में टॉप किया।

पढ़ाई के अलावा आयुष घर के कामों में अपनी मां की मदद करता था। अब वह सेना में अफसर बनकर देश की सेवा करना चाहता है। इस बार उत्तरकाशी के कई छात्र बोर्ड परीक्षा में टॉपर बनकर उभरे हैं। यहां के शक्तिपुरम, चिन्यालीसौर में पढ़ने वाले भाई-बहनों ने हाई स्कूल और इंटरमीडिएट की बोर्ड परीक्षा में टॉप-25 में जगह बनाई। सरस्वती विद्या मंदिर में पढ़ने वाले विपिन सिंह कंटूरा ने इंटरमीडिएट की परीक्षा में छठा स्थान हासिल किया, जबकि विपिन की बहन सपना कंटूरा ने हाई स्कूल में 23वीं रैंक हासिल की।

विपिन और सपना जो कि चिलोठ गांव के रहने वाले हैं। इसी तरह आदित्य बनियाल ने भी टॉप 25 की सूची में अपना नाम बनाया। उत्तराखंड हाई स्कूल परीक्षा में उत्तरकाशी जिले के 14 छात्रों ने टॉप 25 में जगह बनाई। जबकि दो छात्र इंटरमीडिएट की टॉपर सूची में जगह बनाने में सफल रहे।

About Vaibhav Patwal

Haldwani news