Breaking News
Home / उत्तराखंड न्यूज़ / एक बार में नहीं आयी मनपसन्द रैंक तो 3 बार क्रैक करा UPSC, नैनीताल के रिजुल ने रचा इतिहास 3 बार पास करके पाया IPS

एक बार में नहीं आयी मनपसन्द रैंक तो 3 बार क्रैक करा UPSC, नैनीताल के रिजुल ने रचा इतिहास 3 बार पास करके पाया IPS

मेहनत का कोई विकल्प नहीं है। कड़ी मेहनत और लगन जैसी परीक्षा को पास करने के लिए सबसे अधिक आवश्यकता होती है और बड़ी से बड़ी चुनौतियों को भी पार करके सफलता प्राप्त की जा सकती है। उत्तराखंड के कई होनहार उम्मीदवारों ने यूपीएससी की परीक्षा पास कर इस बात को साबित किया है। इस परीक्षा में इस बार उत्तराखंड के होनहार उम्मीदवारों का दबदबा था। इन्हीं में से एक नाम नैनीताल के रिजुल का भी है। रिजुल ने तीसरी बार यूपीएससी परीक्षा पास की है, और अब वह एक आईपीएस अधिकारी के रूप में देश की सेवा करेंगे। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक रिजुल के पिता बाबूलाल डीएफओ हैं|

अभी वह नैनीताल जिले के हल्द्वानी क्षेत्र में तैनात हैं। रिजुल जीजीआईसी के वार्ड नंबर 12 के बाजपुर की रहने वाली हैं। उन्होंने अपनी हाई स्कूल की शिक्षा सेंट मैरी स्कूल से पूरी की। जिसके बाद उन्होंने मदर इंडिया पब्लिक स्कूल से इंटरमीडिएट किया। बाद में रिजुल ने एनआईटी जयपुर से इंजीनियरिंग की। रिजुल बचपन से ही आईपीएस बनना चाहती थी।

इस सपने को पूरा करने के लिए उन्होंने काफी मेहनत की। यूपीएससी में सफलता पाने के लिए रिजुल पिछले कुछ सालों से अपने सपने को पूरा करने के लिए कड़ी मेहनत कर रहा है। वह परीक्षा में पास हो गया लेकिन रैंक में सुधार नहीं हो रहा था। साल 2019 में उन्हें यूपीएससी की परीक्षा में 702वां रैंक मिला था। साल 2020 में वह 706 रैंक हासिल करने में सफल रहे थे।

लेकिन इतना ही उनके लिए काफी नहीं था और वह रैंक सुधारने के लिए बार-बार तैयारी करते रहे और इस साल रिजुल 322वीं रैंक हासिल करने में सफल रहे। वर्तमान में रिजुल भारतीय रक्षा लेखा सेवाओं के प्रशिक्षण के लिए गई हैं। यूपीएससी की परीक्षा पास करने वाले रिजुल अब आईपीएस बनकर अपना सपना पूरा कर सकेंगे। उन्होंने अपनी सफलता का श्रेय अपने परिवार और शिक्षकों को दिया। रिजुल की सफलता से बाजपुर और हल्द्वानी में खुशी की लहर है।

About Vaibhav Patwal

Haldwani news