Breaking News
Home / उत्तराखंड न्यूज़ / केरल पहुंचा मानसून 13 जन तक पहुंचेगा उत्तराखंड, SDRF को किया अलर्ट और ट्रेनिंग हुई शुरू

केरल पहुंचा मानसून 13 जन तक पहुंचेगा उत्तराखंड, SDRF को किया अलर्ट और ट्रेनिंग हुई शुरू

मानसून आखिरकार केरल पहुंच ही गया, अब इसका असर पूरे देश पर पड़ेगा। कई राज्यों में बारिश की संभावना है। गृह राज्य उत्तराखंड की बात करें तो यहां 10 से 20 जून तक मॉनसून पहुंचने की संभावना है। केरल में मॉनसून समय पर पहुंच गया है, इस बार मॉनसून के उत्तराखंड में समय पर पहुंचने की उम्मीद है। अनुमान है कि मानसून उत्तराखंड में 10 से 20 जून तक पहुंच सकता है, हालांकि इसके चार दिन आगे या पीछे होना संभव है।

इस मानसून सीजन के दौरान उत्तराखंड के 5 जिलों के प्रभावित होने की संभावना है। हर साल मानसून का मौसम राज्य में कहर बरपाता है, इन 5 जिलों से भारी बारिश, भूस्खलन, बाढ़, नदियों का उफान, सड़क टूटने जैसी खबरें आती रहती हैं। रुद्रप्रयाग, पिथौरागढ़, उत्तरकाशी, चमोली, बागेश्वर ऐसे जिले हैं जहां मानसून का सबसे अधिक प्रभाव देखा जाता है। इसके बाद पौड़ी, टिहरी और चंपावत जिलों में ऐसी घटनाएं सामने आती रहती हैं। माना जा रहा है कि उत्तर भारत में मानसून समय से पहले दस्तक दे सकता है।

पिछले साल भी मानसून उम्मीद से ज्यादा समय से पहले 13 जून को उत्तराखंड पहुंच गया था, कुमाऊं में मानसून ने दस्तक दे दी थी। इस बार मॉनसून के सामान्य रहने की उम्मीद है। मानसून आमतौर पर राज्य में 15 से 25 जून के बीच दस्तक देता है। भारतीय मौसम विभाग ने इसके 27 मई के आसपास केरल पहुंचने का अनुमान लगाया था। वहीं मानसून 29 मई को यहां पहुंच गया।

आमतौर पर 1 जून केरल में मानसून की शुरुआत की तारीख होती है। केरल से उत्तराखंड पहुंचने में मानसून को 20 से 22 दिन का समय लगता है, इस बार मॉनसून की गतिविधि अधिक रहने की उम्मीद है। मौसम की बात करें तो आज उत्तरकाशी, चमोली, बागेश्वर, रुद्रप्रयाग और पिथौरागढ़ में बारिश की संभावना है. देहरादून समेत मैदानी इलाकों में तेज हवाएं चल सकती हैं। चारधाम यात्रा जिलों में मौसम खराब रहेगा, इसलिए यात्रियों को यात्रा के दौरान सतर्क रहने की सलाह दी जाती है।

About Vaibhav Patwal

Haldwani news