Breaking News
Home / उत्तराखंड न्यूज़ / शिव भक्तो के लिए 3 साल का लम्बा इंतज़ार हुआ खत्म, जल शुरू होगी उत्तराखंड से कैलाश यात्रा

शिव भक्तो के लिए 3 साल का लम्बा इंतज़ार हुआ खत्म, जल शुरू होगी उत्तराखंड से कैलाश यात्रा

उन यात्रियों के लिए एक अच्छी खबर है जो सबसे कठिन ट्रेक और यात्रा में यात्रा करने की हिम्मत रखते हैं जो आदि कैलाश की यात्रा करना चाहते हैं। अब तीन साल का इंतजार खत्म होने जा रहा है। आदि कैलाश की धार्मिक यात्रा शुरू होने वाली है। तीन साल बाद होने वाली इस यात्रा को एक निजी फर्म चला रही है। इस सफर को लेकर लोग कितने उत्साहित हैं इसका अंदाजा आप इसी से लगा सकते हैं. इसका अंदाजा आप इसी बात से लगा सकते हैं कि अब तक 415 यात्रियों ने यात्रा के लिए बुकिंग करा ली है. भले ही यात्रा एक निजी फर्म द्वारा संचालित की जा रही हो|

यात्रा की पूरी व्यवस्था यात्रा के लिए केएमवीएन की नजर में की जाएगी। निगम के अधिकारी सभी पड़ावों का निरीक्षण कर लौट गए हैं। आदि कैलाश की यात्रा के दौरान केएमवीएन द्वारा ठहरने, भोजन और गाइड की व्यवस्था की जाएगी। आइए अब आपको आदि कैलाश यात्रा 2022 के चरणों के बारे में भी बताते हैं। यह यात्रा दिल्ली से शुरू होकर काठगोदाम पहुंचेगी। काठगोदाम से यात्रा टीम पहले दिन पिथौरागढ़ पहुंचेगी। दूसरे दिन यह पिथौरागढ़ से धारचूला के लिए जाएगी।

तीसरे दिन धारचूला में इनरलाइन परमिट जारी कर टीम सीधे वाहन से गुंजी पहुंचेगी. चौथे दिन टीम गुंजी से जिओलिगकोंग जाएगी और आदि कैलाश और पार्वती सरोवर के दर्शन कर गुंजी लौटेगी। पांचवें दिन टीम गुंजी से नविढांग जाएगी। वहाँ नबी ओम पर्वत को देखकर रात को लौटेंगे। अगले दिन टीम नबी से धारचूला होते हुए दीदीहाट या चौकोरी पहुंचेगी। सातवें दिन टीम को काठगोदाम पहुंचना होगा।

आदि कैलाश क्षेत्र में बीआरओ की मदद से जीरो पॉइंट तक सड़क तैयार है। अभी हिमस्खलन के कारण पार्वती सरोवर की ओर जाने वाले मार्ग पर बर्फ जम गई है। यात्रा शुरू होने तक बर्फ के पिघलने की संभावना है। कुमाऊं के 9 युवकों का दल भी व्यवस्थाओं का जायजा लेने रविवार को आदि कैलाश यात्रा के लिए रवाना हो गया है. टीम में नैनीताल, हल्द्वानी, रुद्रपुर और कुमाऊं के अन्य इलाकों के लोग शामिल हैं. टीम सोमवार को आदि कैलाश यात्रा 2022 जाएगी और मंगलवार को ओम पर्वत के दर्शन कर धारचूला लौटेगी।

About Vaibhav Patwal

Haldwani news