Breaking News
Home / हल्द्वानी न्यूज़ / खतरनाक साबित हो रहा है टोनी कक्कड़ के गाने, गाना सुनकर बच्चे कर रहे रंगदारी

खतरनाक साबित हो रहा है टोनी कक्कड़ के गाने, गाना सुनकर बच्चे कर रहे रंगदारी

हल्द्वानी में रहने वाले वैभव कुच्छल पेशे से डॉक्टर हैं। वह एक निजी अस्पताल चलाता है। हाल ही में, वह रंगदारी का शिकार हो गया एक अज्ञात फोन कॉल ने उसके होश उड़ा दिए और उसकी नींद हराम हो गई। फोन करने वाले ने फोन कर तीन करोड़ रंगदारी की मांग की और रुपये न देने पर डॉक्टर के बेटे को अगवा करने की धमकी दी। मामला गंभीर था इसलिए पुलिस ने तुरंत जांच शुरू कर दी। जब फोन करने वाले के नंबर की डिटेल निकाली गई तो एक धमकी देने वाला बच्चा महज दस साल का निकला।

बताया जा रहा है कि बच्चा कक्षा तीन में पढ़ता है। पुलिस ने बताया कि 10 साल के इस बच्चे ने शरारत में अंजान नंबर मिला दिया था। हालांकि, डॉ. कुच्छल पुलिस के इस खुलासे से सहमत नहीं हैं। ईएनटी सर्जन डॉ. वैभव कुच्छल रामपुर रोड मानपुर नॉर्थ जोन में अस्पताल चलाते हैं। सोमवार को उसे फोन कर 3 करोड़ की रंगदारी मांगी। घटना से जिले भर में दहशत का माहौल है।

एसएसपी ने डॉक्टर के घर पर पुलिस बल तैनात कर दिया। इसके बाद जांच की गई, जिसमें उसने खुलासा किया कि फोन हापुड़ से किया गया था। जिसके बाद मंगलवार रात एक फर्नीचर कारोबारी को पकड़ा गया। पूछताछ में पता चला कि कॉल कारोबारी के 10 साल के बेटे ने की थी। हल्द्वानी पुलिस रात में व्यापारी व उसके बेटे को हल्द्वानी लेकर आई। यहां पूछताछ के दौरान बच्चे ने हैरान करने वाली बात बताई। बच्चे ने कहा कि उसने टोनी कक्कड़ का गाना सुना है।

टोनी कक्कड़ का एक ssng है जिसमें लाइन है जो जाती है ‘नंबर लिख’, नंबर लाइक 98971 हमको अंग्रेजी आती है कम, दम दीगा दम दीगा दम…. डॉ वैभव कुच्छल का मोबाइल नंबर भी 98971 है… 21. इस पर जब उनके पास फोन आया तो उन्होंने मजाक में रंगदारी की बात कही। बच्चे ने वह पूरा डायलॉग भी बोला जो उसने फोन पर डॉक्टर को बताया था। बच्चे ने कहा कि वह सिर्फ मजाक कर रहा था। वैभव अंकल मन के डॉक्टर होते तो समझ जाते कि ये गले के डॉक्टर हैं तो मेरे गले में खराश है। पता चला है कि बच्चा एक कॉन्वेंट स्कूल में पढ़ता है|

मोबाइल गेम्स और टेक्नोलॉजी के मामले में भी इसका कोई मुकाबला नहीं है। पुलिस कह रही है कि बच्चे ने फोन किया है, लेकिन डॉक्टर वैभव बच्चे की आवाज और मोबाइल पर सुनाई देने वाली आवाज पर विचार नहीं कर रहे हैं. उसने बताया कि वर्ष 2007 में वह शिकार बना था क्योंकि उसकी मां विजय लक्ष्मी कुच्छल की घर में ही बदमाशों ने हत्या कर लूटपाट की थी। उस घटना से जुड़े तार हो सकते हैं। उन्होंने पुलिस से मामले की गहन जांच करने की मांग की है। उधर, पुलिस ने बच्चे को बाल कल्याण समिति के समक्ष पेश किया.

About Vaibhav Patwal

Haldwani news