Breaking News
Home / उत्तराखंड न्यूज़ / नमस्कार न करने पर सीनियर ने अपने जूनियर को पीटा, रैगिंग पर फिर सुर्खियों में आया उत्तराखंड का ये कॉलेज

नमस्कार न करने पर सीनियर ने अपने जूनियर को पीटा, रैगिंग पर फिर सुर्खियों में आया उत्तराखंड का ये कॉलेज

हल्द्वानी का सरकारी मेडिकल कॉलेज हमेशा चर्चा में रहता है। यह कॉलेज अक्सर पढ़ाई के लिए नहीं बल्कि दूसरे विवादों को लेकर चर्चा में रहता है। कभी कॉलेज में पढ़ने वाले छात्रों की रैगिंग की जाती है तो कभी उन्हें गंजा कर कैंपस में घूमा दिया जाता है. इस बार एक खबर आई है जहां एक सीनियर ने जूनियर को थप्पड़ जड़ दिया।

फिलहाल मारपीट के मामले को जोड़कर इंटर्न को तत्काल कार्रवाई करते हुए इंटर्नशिप से निष्कासित कर दिया गया है। घटना शुक्रवार को हुई। इस मेडिकल कॉलेज में सीनियर ने जूनियर को बिना वजह थप्पड़ मार दिया। घटना के बाद इंटर्न को इंटर्नशिप से हटा दिया गया है। विवाद को लेकर जूनियर छात्र का कहना है कि इंटर्न डॉक्टर ने उसे नमस्कार न कहने पर बीच-बचाव किया था. बस इसी बात को लेकर दोनों के बीच कहासुनी हो गई। बातचीत के दौरान इंटर्न ने गुस्से में आकर उसे थप्पड़ मार दिया।

जूनियर छात्र ने इंटर्न डॉक्टर पर एंटी रैगिंग कमेटी के समक्ष रैगिंग करने का भी आरोप लगाया है। हालांकि कॉलेज प्रशासन रैगिंग की किसी भी खबर से इनकार कर रहा है और घटना को रैगिंग मानकर चल रहा है। कॉलेज प्रशासन ने मामले को मारपीट से संबंधित माना है, जिसके तहत इंटर्न डॉक्टर के खिलाफ कार्रवाई की गई है. मारपीट की सूचना पर बीती रात मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. अरुण जोशी समेत वार्डन व अन्य ने छात्रावास में छापेमारी की. कमरे का निरीक्षण करने पर वहां तोड़फोड़ के भी साक्ष्य मिले।

बाद में जूनियर छात्र से पूछताछ की गई। हालांकि अनुशासन समिति ने अनुशासन का पालन नहीं करने पर जुर्माने की सीमा बढ़ाकर 30000 रुपये कर दी है। आपको बता दें कि हल्द्वानी के इस सरकारी मेडिकल कॉलेज में दो महीने के अंतराल में एक ही तरह की दो घटनाएं सामने आ चुकी हैं. पहली घटना मार्च में हुई थी, जब एमबीबीएस के छात्रों को गंजा कर दिया गया था और कैंपस में घूम रहे थे। यहां शुक्रवार को एक जूनियर छात्र के साथ मारपीट की गई। हालांकि मामला मारपीट या रैगिंग का है, यह जांच के बाद ही पता चलेगा।

About Vaibhav Patwal

Haldwani news