Breaking News
Home / अजब गज़ब / उत्तराखंड में मिल गया स्वर्ग का द्वार, यही से करी थी पांडवो ने स्वर की यात्रा

उत्तराखंड में मिल गया स्वर्ग का द्वार, यही से करी थी पांडवो ने स्वर की यात्रा

उत्तराखंड से जुड़े मन्त्र मिथक और लोककथाएं हैं, यह भूमि हमेशा देवताओं की भूमि है, ऐसा कहा जाता है कि स्वर्ग का मार्ग इस विशाल हिमालय में कहीं है। पौराणिक कथाओं के अनुसार अपने अंतिम दिनों में पांचों पांडव और द्रौपदी सब कुछ पीछे छोड़ कर माणा गांव से होते हुए बद्रीनाथ के पार स्वर्गारोहिणी गए, क्षमा मांगने के लिए, लेकिन रास्ते में कठिनाइयों और प्रतिकूल मौसम के कारण, उन सभी की मृत्यु हो गई और केवल युधिष्ठिर बच गए और वे धर्मराज के साथ स्वर्ग जा सकते थे। कुछ लोगों का तो यह भी मानना ​​है कि अन्य चार पांडवों और द्रौपदी में कुछ अहंकार था, जिसके परिणामस्वरूप वे भौतिक स्वर्ग तक नहीं पहुंच सके।

अब आधुनिक समय में मुर्गी की सीमाएँ बनती हैं और नए भूमि देश बनते हैं सब कुछ बदल गया है। कहा जा रहा है कि तियानमेन माउंटेन नेशनल पार्क में स्थित हेवन्स गेट माउंटेन चीन के सबसे प्रसिद्ध स्थानों में से एक है। आपको बता दें, यह अनोखी जगह पहाड़ों से बनी है। नजारा बेहद खूबसूरत है। हर कोई इसे स्वर्ग से कम नहीं मानता। स्वर्ग के द्वार तक पहुंचने के लिए आपको 2,500 फीट की सीढ़ी चढ़नी होगी जो हर किसी के लिए संभव नहीं है।

यह स्वर्ग का द्वार चीन के हुनान प्रांत के उत्तर-पश्चिमी भाग में माउंटेन नेशनल पार्क में स्थित है। यह गुफा समुद्र तल से करीब पांच हजार फीट की ऊंचाई पर है, यही वजह है कि यहां आने वाला हर पर्यटक कहता है कि यह सबसे खूबसूरत पर्वतों में से एक है। बहुत से लोग यहां पहाड़ों का आनंद लेने आते हैं और इस अनोखे अजूबे को देखना पसंद करते हैं। यहां तक ​​पहुंचने के लिए लोगों को इन सीढ़ियों पर चढ़ना पड़ता है।

यह स्थान इतनी ऊंचाई पर स्थित है, जिसके कारण यह गुफा हमेशा बादलों से घिरी रहती है। दरवाजे तक पहुंचने के लिए लोग केबल का इस्तेमाल करते हैं। केबल से उतरने के बाद लोगों को गुफा तक पहुंचने के लिए 3 सीढ़ियां चढ़नी पड़ती हैं। ऐसे केबल वे का नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में दर्ज किया गया है क्योंकि इसे दुनिया का सबसे लंबा और सबसे ऊंचा केबल तरीका कहा जाता है।

About Vaibhav Patwal

Haldwani news