Breaking News
Home / उत्तराखंड न्यूज़ / उत्तराखंड में बीजेपी ने दिया लोकल उम्मदवारो का साथ, पहली बार एक कारपेंटर बना मला

उत्तराखंड में बीजेपी ने दिया लोकल उम्मदवारो का साथ, पहली बार एक कारपेंटर बना मला

चुनाव परिणाम आने के बाद सभी राजनीतिक दल जीत-हार के गुणा-भाग में लगे हुए हैं. इसी बीच उत्तराखंड से एक बड़ी खबर सामने आ रही है। यहां कई नए विधायकों की जीत चर्चा का विषय बनी हुई है। बढ़ई से विधायक बने फकीर राम टम्टा की भी काफी चर्चा हो रही है। पिथौरागढ़ की गंगोलीहाट सीट से फकीर राम टम्टा जीते। फकीर राम टम्टा वही उम्मीदवार हैं, जिन्हें बीजेपी ने विधायक मीना गंगोला की जगह टिकट दिया और यह फैसला सही साबित हुआ. गंगोलीहाट सीट से बीजेपी उम्मीदवार फकीर राम टम्टा ने 9,538 वोटों के अंतर से जीत हासिल की है|

टम्टा ने कांग्रेस उम्मीदवार खजान चंद्र गुड्डू को हराया था। चौदमन्या कस्बे के नागौर गांव निवासी फकीर राम टम्टा का प्रारंभिक चरण। टम्टा के लिए यह जीत बहुत कठिन थी, उनकी खराब आर्थिक स्थिति के कारण, उन्होंने बढ़ई के रूप में काम करना शुरू कर दिया। इस दौरान वे भाजपा में शामिल हो गए। वर्ष 2008 में वे जिला पंचायत के सदस्य बने। फकीर राम टम्टा ने साल 2012 और 2017 में भी गंगोलीहाट विधानसभा सीट से विधायक के लिए दावा किया था, लेकिन आखिरी चरण में टिकट कट गया। इसके बाद भी उन्होंने संगठन के लिए काम करना जारी रखा।

इस दौरान कई वर्षों से लंबित पेंशन के मामलों का निराकरण किया गया और जो पात्र थे उन्हें पेंशन दी गई. उन्होंने कोविड काल में कई लोगों की मदद भी की। घर-घर राशन पहुंचाने से लेकर। इसके जरिए उन्होंने राज्य संगठन और स्थानीय संगठन में अच्छी पकड़ बनाई और फिर 2022 के चुनाव में अपनी दावेदारी पेश की। इस बार पार्टी ने मौजूदा महिला विधायक मीना गंगोला का टिकट काट कर फकीर राम टम्टा पर भरोसा जताया और फकीर राम ने इस भरोसे को टूटने नहीं दिया. फकीर राम टम्टा को अपने सीधे स्वभाव और जनता में पकड़ के कारण जीत मिली।

फकीर राम टम्टा ने अपने सीधे स्वभाव और जनता में पकड़ के कारण आखिरकार गंगोलीहाट से अपनी सीट पक्की कर ली। फकीर राम टम्टा भाजपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष, कैबिनेट मंत्री बिशन सिंह चुफल और महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी के काफी करीबी माने जाते हैं। उनकी जीत से इलाके में जश्न का माहौल है।

About Vaibhav Patwal

Haldwani news