Breaking News
Home / देहरादून न्यूज़ / क्या उत्तराखंड में खत्म हो गया हरदा का करियर, बेटी अनुपमा बढ़ाएंगी उनकी विरासत को आगे

क्या उत्तराखंड में खत्म हो गया हरदा का करियर, बेटी अनुपमा बढ़ाएंगी उनकी विरासत को आगे

चुनाव से पहले कांग्रेस पार्टी में इस बात को लेकर काफी बवाल था कि उत्तराखंड में सीएम का चेहरा कौन होगा। फिर भी चुनाव की तारीख तक यह तय नहीं था लेकिन कहा गया था कि अगर कांग्रेस सत्ता में आई तो हरीश रावत मुख्यमंत्री होंगे। बिट अब परिणाम के बाद पूरा दृश्य ही बदल गया। वह खुद को कांग्रेस का सीएम चेहरा कहां कह रहे थे, लेकिन अब वह अपनी सीट नहीं बचा पा रहे थे।

हरीश रावत लाल कुआं से अपनी सीट हार गए, उनकी विरासत को उनकी बेटी अनुपमा रावत ने बचा लिया, जिन्होंने अपने पिता की साख बचाई और हरिद्वार ग्रामीण सीट पर अपना भविष्य तय किया और जीतने में भी कामयाब रही। यह वही सीट है जहां से हरीश रावत पिछला चुनाव हार गए थे। इस विधानसभा चुनाव में राज्य के कई बड़े नेताओं की साख दांव पर लगी थी, उनमें से एक हैं पूर्व सीएम हरीश रावत।

चुनाव परिणाम से ठीक पहले हरीश रावत ने अपनी पत्नी रेणुका रावत के साथ पूजा-अर्चना की, लेकिन इससे उनके पिता की सीट नहीं बच सकी. ये है हरीश रावत का हाल, जब उन्होंने 14 फरवरी को वोटिंग के बाद खुद को सीएम तक घोषित कर दिया था| हरीश रावत का सीधा मुकाबला भाजपा प्रत्याशी डॉ. मोहन सिंह बिष्ट से था। चुनाव के बाद हरीश रावत ने कहा कि या तो मैं मुख्यमंत्री बनूंगा या फिर घर पर बैठूंगा|

ऐसे में क्या लालकुआं का रण उनके राजनीतिक करियर के लिए मौत का कुआं साबित होने वाला है, यह सवाल हर किसी के मन में है. पूर्व सीएम हरीश रावत के लिए यह विधानसभा चुनाव काफी अहम रहा है। उम्र के लिहाज से भी यह चुनाव उनके राजनीतिक करियर की दिशा तय करेगा। इससे पहले 2017 के विधानसभा चुनाव में भी हरीश रावत मुख्यमंत्री रहते हुए दो सीटों से चुनाव हार गए थे।

वह किच्छा और हरिद्वार ग्रामीण सीट से हार गए थे। हरीश रावत उत्तराखंड के मुख्यमंत्री रह चुके हैं। उन्होंने 2019 के लोकसभा चुनाव में भी नैनीताल-उधमसिंहनगर की लोकसभा सीट से अपनी किस्मत आजमाई, लेकिन यहां भी उन्हें हार का सामना करना पड़ा.

About Vaibhav Patwal

Haldwani news