Breaking News
Home / अजब गज़ब / गरीबी से लड़कर डॉक्टर बना वाराणसी का ये युवक, कर डाली मुफ्त में 37000 सर्जरी, ला रहे बच्चों के चेहरे पर मुस्कान

गरीबी से लड़कर डॉक्टर बना वाराणसी का ये युवक, कर डाली मुफ्त में 37000 सर्जरी, ला रहे बच्चों के चेहरे पर मुस्कान

डॉक्टर वास्तव में भगवान का एक रूप है। और डॉ. सुबोध कुमार सिंह इस उद्धरण का जीता जागता उदाहरण हैं। वाराणसी के इन डॉक्टरों ने अब तक 37,000 से अधिक सर्जरी मुफ्त की हैं और यह सब बच्चों के चेहरे पर मुस्कान लाने के लिए है। कुछ बच्चे ऐसे होते हैं जिनके होंठ और मुंह के अंदर कुछ विकृति होती है। इसे कटे होंठ कहते हैं। इस प्रकार की बीमारी से पीड़ित बच्चों को बचपन में दूध पीना बहुत मुश्किल लगता है। बड़े होने पर ये भी अजीब लगते हैं। इस वजह से लोग उनका मजाक भी उड़ाते हैं।

अगर यह सर्जरी महंगे अस्पताल में करवाई जाए तो यह काफी महंगा पड़ता है। गरीब माता-पिता के लिए इसे वहन करना मुश्किल है। ऐसे में डॉ. सुबोध ऐसे बच्चों की मदद करते हैं. उन्होंने जनरल सर्जरी में विशेषज्ञता हासिल की है और वे विशेष रूप से फटे होंठों के लिए शिविर आयोजित करते हैं। डॉ. सुबोध ने बताया कि ऐसे बच्चे भी कुपोषण के कारण मर जाते हैं, क्योंकि वे ठीक से दूध भी नहीं पी पाते हैं। बच्चों को बोलने के लिए जीभ का उपयोग करने में कठिनाई होती है। इस विकृति के कारण उनके कान में भी संक्रमण हो जाता है।

ऐसे बच्चे स्कूल भी पूरी नहीं कर पाते हैं और अगर वे स्कूल जाते हैं तो उनके लिए नौकरी पाना मुश्किल हो जाता है। माता-पिता को भी बहुत कुछ सहना पड़ता है। खासकर मां। क्योंकि लोग उन्हें ही इस बीमारी के लिए जिम्मेदार मानते हैं। लेकिन इन सभी चीजों से सर्जरी के जरिए छुटकारा पाया जा सकता है।

यही कारण है कि 2004 से उन्होंने अपना मेडिकल करियर ऐसे बच्चों की मदद के लिए समर्पित कर दिया। उन्होंने तब से अब तक 37 हजार से ज्यादा सर्जरी की हैं। करीब 25 हजार परिवारों के चेहरों पर मुस्कान लाने में सफल रही है। डॉ. सुबोध और उनके परिवार का जीवन संघर्षों से भरा रहा है। जब वे 13 साल के थे, तब उनके पिता का दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया था। डॉ. सुबोध चार भाइयों में सबसे छोटे थे। परिवार चलाने के लिए उनके भाइयों को अपनी पढ़ाई छोड़नी पड़ी।

पैसे कमाने के लिए उसने अपने भाइयों के साथ सड़कों पर मोमबत्तियां, साबुन और गिलास बेचे। उनके पिता एक सरकारी क्लर्क थे। ऐसे में बड़े भाई को मृतक आश्रित में नौकरी मिल गई। यह उसका भाई था जिसने उसे पढ़ाया और डॉक्टर बनाया। अपने परिवार और अपने जुनून की मदद से डॉक्टर बनने का उनका सपना साकार हुआ और उन्होंने इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज से अपनी पढ़ाई पूरी की। आज वह बहुत मेहनत और संघर्ष के साथ इस मुकाम तक पहुंचे हैं। लेकिन वे पैसा कमाने के बजाय इसका इस्तेमाल समाज और बच्चों की भलाई के लिए कर रहे हैं।

About Vaibhav Patwal

Haldwani news