Breaking News
Home / अजब गज़ब / बेटी के काम आया दादी का नुस्खा, मां ने बैंक से लोन लेकर बनाई लाखों की कंपनी

बेटी के काम आया दादी का नुस्खा, मां ने बैंक से लोन लेकर बनाई लाखों की कंपनी

हर आदमी की एक कला होती है। यह कला कुछ भी हो सकती है, यह उस व्यक्ति पर निर्भर करता है कि वे इसका उपयोग कैसे करते हैं, और क्या उसमें इसका सही उपयोग करने की क्षमता है। इस कला को कम ही लोग पहचानते हैं। लेकिन कुछ लोग उनकी कला को नहीं पहचान पाते। जो उनमें मौजूद कला को पहचानता है, वह एक दिन नई ऊंचाइयों को जरूर छूता है। कभी भी अपनी कला दिखाना उनके लिए कोई काम नहीं था।

विद्या एमआर केरल के तिरुवनंतपुरम की रहने वाली हैं। वह वर्तमान में केरल में एक कंप्यूटर सहायक के रूप में एक संविदा कर्मचारी के रूप में कार्यरत है। 42 साल की महिला का कभी भी बिजनेस जैसा कुछ करने का कोई इरादा नहीं था। विद्या बताती हैं कि बेटी जो इस समय स्कूल में पढ़ रही है। वह अपने बालों में डैंड्रफ से बेहद परेशान थी। कई सालों तक तमाम तरह के तेल और औषधियों का इस्तेमाल करने के बाद भी कोई फायदा नहीं हुआ। उसके डैंड्रफ की वजह से बच्चे स्कूल में उसे चिढ़ाते थे। ऐसे में उन्होंने घरेलू नुस्खे अपनाकर तेल बनाया। उनका तेल उनकी बेटी के लिए बहुत कारगर साबित हुआ। कुछ ही महीनों में सारा डैंड्रफ दूर हो गया।

विद्या बताती हैं कि जब उन्होंने सब कुछ करने की कोशिश की, तो उन्होंने अपनी मां से बात करना उचित समझा। उनकी मां ने कहा कि किसी दवा या तेल की जगह घरेलू नुस्खे आजमाएं। माँ ने कहा कि नारियल का दूध, एलोवेरा, आंवला, गुड़हल को मिलाकर एक तेल तैयार करें। इसे कुछ दिनों तक लगातार अपने बालों पर लगाएं। शायद इससे फर्क पड़ेगा। मां ने बताया कि यह पारंपरिक तरीका कितना कारगर होगा, यह पता नहीं था। लेकिन विद्या ने तीन दिन की मेहनत के बाद इसे फिर से तैयार किया।

विद्या का मानना ​​था कि जब सब कुछ आजमा लिया जाएगा तो इस नुस्खे से क्या फायदा होगा? लेकिन जब विद्या ने इसे अपनी बेटी के बालों पर लगाया तो नतीजा देख वो हैरान रह गईं. कुछ दिनों के बाद उसका डैंड्रफ पूरी तरह से साफ हो गया। उन्हें इस बात का अंदाजा नहीं था कि वह और उनकी बेटी जिस समस्या से सालों से परेशान हैं, वह इस घरेलू उपाय से हल हो जाएगी। गायत्री जब तेल लगाकर स्कूल पहुंची तो उसके साथी हैरान रह गए। उन्हें लगा जैसे गायत्री को कोई चमत्कार हो गया हो। वे इस समस्या का रहस्य पूछने लगे। इसके बाद गायत्री ने उन्हें सारी बात बताई। गायत्री की बातों से वे इतने प्रभावित हुए कि उन्होंने तेल भी मांग लिया|

विद्या ने देखा कि इस तेल की मांग लगातार बढ़ रही है। इसलिए उन्होंने इस पर काम करना शुरू किया और उन्होंने अपनी कंपनी शुरू की। शुरू में उसने यह तेल उसके रिश्तेदारों के पास भेजा। इसके साथ ही अपने आसपास की दुकानों पर तेल रखवा दिया। विद्या ने देखा कि यह काम जोर पकड़ रहा है तो उन्होंने साल 2018 में बैंक से कर्ज लिया और इस काम को स्टार्टअप (अगड़ा हर्बल रेमेडीज) का रूप दे दिया। पहले वह घरेलू स्तर पर तेल बनाती थी, फिर मशीन खरीदती थी। अब वो बेहतर पैकिंग के साथ बाजार में वापस आ गई थी

About Vaibhav Patwal

Haldwani news