Breaking News
Home / उत्तराखंड न्यूज़ / उत्तराखंड के इस पेड़ में है कोरोना से लडने का सीधा इलाज, जाने और भी क्या है इसके फायदे

उत्तराखंड के इस पेड़ में है कोरोना से लडने का सीधा इलाज, जाने और भी क्या है इसके फायदे

कोरोना वायरस, जो अब दहशत का दूसरा नाम बन गया है। दुनिया का हर देश इस खतरे का सामना कर रहा है। इलाज के नाम पर पहले से ही कोरोना से बचाव के टीके चल रहे हैं, लेकिन इस बीमारी का इलाज अभी तक खोजा नहीं जा सका है. कोरोना की तीसरी लहर की भयावहता के बीच भारतीय वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि उन्होंने हिमालय में पाए जाने वाले एक पेड़ में कोरोना जैसी खतरनाक बीमारी का इलाज खोज लिया है, जिसे हम बुरांश के नाम से जानते हैं|

आईआईटी मंडी और आईसीजीईबी के शोधकर्ताओं का दावा है कि बुरांश के फूलों में कुछ ऐसे तत्व पाए जाते हैं जो कोरोना संक्रमण की रोकथाम में फायदेमंद साबित हो सकते हैं। उत्तराखंड में बुरांश को राजकीय वृक्ष का दर्जा प्राप्त है। इसका वैज्ञानिक नाम रोडोड्रेड्रोन अर्बोरियम है। यह वृक्ष राज्यों का राष्ट्रीय वृक्ष भी है। दावा किया जाता है कि यह पेड़ कोरोना से लड़ने में मदद कर सकता है। इसके फूलों की पंखुड़ियों में मौजूद फाइटोकेमिकल नामक पदार्थ कोरोना को बढ़ने से रोकता है।

इसमें ऐसे एंटी-वायरल गुण होते हैं, जो इसके सामने वायरस का जीवित रहना असंभव बना देता है। उत्तराखंड के अलावा, बुरांश हिमाचल और कश्मीर में भी पाया जाता है। आईआईटी मंडी के प्रोफेसर डॉ. श्याम कुमार मसाकापल्ली के अनुसार, बुरांश के फाइटोकेमिकल्स एक एंजाइम से बंधते हैं जो वायरस को खुद की नकल करने में मदद करता है। इस प्रक्रिया के कारण वायरस हमारे शरीर की कोशिकाओं को प्रभावित नहीं कर पाता है। जिससे संक्रमण का खतरा टल जाता है।

उम्मीद की जा रही है कि जल्द ही इस पेड़ से बनी ऐसी दवा भी लॉन्च की जा सकती है। वैज्ञानिकों की टीम हिमालय में पाए जाने वाले अन्य पौधों में भी कोरोना का इलाज ढूंढ रही है। बुरांश की बात करें तो यह औषधीय गुणों से भरपूर पेड़ है। इसके फूलों से न केवल औषधीय रस बनाया जाता है, बल्कि इसके सेवन से सिरदर्द, सांस की बीमारियों और दाद आदि में भी लाभकारी बताया गया है। उत्तराखंड में बुरांश को राजकीय वृक्ष का दर्जा प्राप्त है, जबकि नेपाल में इसे राष्ट्रीय फूल की उपाधि प्राप्त है।

About Vaibhav Patwal

Haldwani news