Breaking News
Home / उत्तराखंड न्यूज़ / उत्तराखंड के पहाड़ों में मिली कोरोना की जड़ीबूटी, रिसर्च में हुआ बड़ा खुलासा देखें

उत्तराखंड के पहाड़ों में मिली कोरोना की जड़ीबूटी, रिसर्च में हुआ बड़ा खुलासा देखें

आज आपको बताते है की कोरोना के खिलाफ किसे कहा जा रहा है की संजीवनी बूटी मिल गयी है IIT मंडी और ICGEB की रिसर्च ने हिमालय राज्यों में पाए जाने वाले एक फूल को कोरोना का इलाज बता रहे है इस फूल का नाम है बुरांस। ये फोट उत्तराखंड, कश्मीर, हिमालय के इलावा नार्थ ईस्ट के राज्यों में पाया जाता है वैज्ञानिकों ने बुरांस की पंखुड़ियों में ऐसे तत्व पाए है उनको पहचाना है जो शरीर में कोरोना वुरुस को रोकने में काफी सक्षम है ये जो तत्व मिला है इसे एंटीवायरल गुण से भरा हुआ बताया जा रहा है जिसकी वजह से इनके सामने वायरस टिक नहीं पाते है और रिसर्च के मुताबिक बुरांस शरीर में दो तरह से काम करते है सबसे पहले ये कोरोना से मिलने वाले एक ऐसे एंज़ाइम से जुड़े होते है जो वायरस को अपना डुबलीकेट बनने में मदत करता है और इसके इलवा ये शरीर में मिलबन वाले ACE2 एन्ज़ाइम से भी जुड़ जाते है और ACE2 एन्ज़ाइम के जरिये ही वायरस इंसानी शरीर में एंट्री करता है। रिसर्च के मुताबिक इस खोज को बिओमेनिकुलिअब स्ट्रक्चर एंड डैनमिक नाम के इस जर्नल में पब्लिश किया गया है।

आपको बता दे की बुरांस के फूलों में एक ऐसा आरक पाया जाता है जो कोरोना को शरीर में बढ़ने से रोकेगा रिसर्च के मुताबित बुरांस का ये फौल उत्तराखंड, कश्मीर और हिमाचल पदेश में पाया जाता है यहाँ के लोग काफी समाया से इस फूल का इतेमाल बेहतर स्वास्त के लिए करते है। सिर्फ कोरोना ही नहीं बल्कि बुरांस का फूल कई और रोगो के लिए भी जड़ीबूटी है जैसे की ज़ुखाम, हिरदय रोग, सर दर्द, बुखार और माशपेशियों के दर्द को दूर करने में इसका इस्तेमाल किया जा सकता है। तो कैसा लगा आपको ये जानकारी हमे कमेंट बॉक्स में जरूर बताये और जानकारी अच्छी लगी हो तो शेयर जरूर करे और लिखे भी।

About admin