Breaking News
Home / उत्तराखंड न्यूज़ / दिल्ली कि 26 जनवरी की परेड पर बद्रीनाथ बनेगा आकर्षण का केंद्र, साथ होगा टिहरी बांध या हेमकुंड

दिल्ली कि 26 जनवरी की परेड पर बद्रीनाथ बनेगा आकर्षण का केंद्र, साथ होगा टिहरी बांध या हेमकुंड

उत्तराखंड का वैभव और उसके रंग किसी अन्य राज्य से कम नहीं हैं इस बार राजपथ पर इस बार संस्कृति के विभिन्न रंग बिखेरेंगे। गणतंत्र दिवस के अवसर पर गणतंत्र दिवस के अवसर पर राजपथ पर होने वाली परेड में उत्तराखंड की झांकी दिखाई देगी| हर साल अन्य राज्यों के साथ एक झांकी भी दिखाई जाती है। राजपथ पर डोबरा-चंथी पुल की झांकी के साथ ही देश और दुनिया के लोग प्रमुख सिख तीर्थ हेमकुंड साहिब, टिहरी बांध और भगवान बद्री विशाल के मंदिर की भव्यता और दिव्यता को देख सकेंगे|

इन सभी चीजों को गणतंत्र दिवस के मौके पर परेड में आकर्षण के केंद्र उत्तराखंड की झांकी में दिखाया जाएगा| इस बार भी उत्तराखंड को परेड के जरिए सैलानियों को संस्कृति दिखाने का मौका मिला है| नोडल अधिकारी एवं संयुक्त निदेशक सूचना केएस चौहान ने कहा कि देवभूमि उत्तराखंड की झांकी में सबसे आगे गुरुद्वारा हेमकुंड साहिब, उसके बाद टिहरी बांध, फिर डोबरा चंथी पुल और उसके बाद करोड़ों की आस्था के केंद्र भगवान बद्रीविशाल का मंदिर होगा|

कुमाऊं सांस्कृतिक लोक कला दर्पण लोहाघाट, चंपावत के 16 कलाकारों की सांस्कृतिक टीम झांकी के साथ चलती नजर आएगी| राज्य बनने के बाद से उत्तराखंड को यहां राजपथ पर 13 बार झांकी दिखाने का मौका मिला है| इससे पहले वर्ष 2003 में फुलदेई को दिखाया गया था, 2005 में नंदा राजाजात यात्रा, 2006 में फूलों की घाटी, 2007 में कॉर्बेट नेशनल पार्क, 2009 में एडवेंचर टूरिज्म, 2010 में कुंभ मेला, 2014 में जड़ी-बूटी, 2015 में केदारनाथ धाम पुनर्निर्माण, ग्रामीण पर्यटन राजपथ पर 2018 में अनाशक्ति आश्रम कौसानी और 2019 में केदारनाथ धाम की झांकी देखी गई|

गणतंत्र दिवस परेड में इस बार भी उत्तराखंड की झांकी आकर्षण का केंद्र रहेगी। यह झांकी दिल्ली में बनेगी। राजपथ पर उत्तराखंड के अलावा यूपी, अरुणाचल प्रदेश, हरियाणा, छत्तीसगढ़, गोवा, गुजरात, जम्मू-कश्मीर, कर्नाटक, महाराष्ट्र, मेघालय और पंजाब की झांकियां भी दिखाई देंगी| गणतंत्र दिवस के कार्यक्रम इस बार कोविड प्रोटोकॉल के साथ आयोजित किए जा रहे हैं।

About Vaibhav Patwal

Haldwani news