Breaking News
Home / अजब गज़ब / दिल्ली में 10 गुना कम दाम में मिल रहे हैं पुराने वाहन, 30 लाख की गाड़ी की किमत सिरफ 12 लाख

दिल्ली में 10 गुना कम दाम में मिल रहे हैं पुराने वाहन, 30 लाख की गाड़ी की किमत सिरफ 12 लाख

दिल्ली समेत एनसीआर का इलाका इन दिनों पुराने वाहनों की खरीद-बिक्री का बाजार गुलजार है क्योंकि सरकार 10 साल से ज्यादा पुराने डीजल और 15 साल पुराने पेट्रोल वाले वाहनों पर रोक लगा रही है. यूज्ड कार डीलर्स के अनुमान के मुताबिक दिल्ली एनसीआर में रोजाना 200 यूज्ड वाहन बिक रहे हैं। इनमें 10 साल पुराने डीजल आधारित ईंधन वाली कारों की सबसे ज्यादा मांग है, जिनका कभी कोई एक्सीडेंट नहीं हुआ और जो कम किलोमीटर चली हैं। एनसीआर फरीदाबाद, गुरुग्राम, नोएडा, गाजियाबाद में भी विक्रेताओं को अन्य राज्यों में पंजीकरण प्राधिकरण से प्रतिबंधित पुरानी कारों के पंजीकरण के लिए अनापत्ति प्रमाण पत्र प्राप्त हो रहे हैं।

कई महंगी लग्जरी कारें सबसे ज्यादा चंडीगढ़, झारखंड के रांची और दक्षिण भारत के प्रमुख शहरों में बिक रही हैं। इन शहरों में यूज्ड कार डीलर ऐसी कारों को खरीदने के लिए दिल्ली एनसीआर में यूज्ड कार डीलरों से संपर्क कर रहे हैं। पुरानी कारों के बाजार में 15 साल पुराने पेट्रोल वाहनों की कोई मांग नहीं है। बाजार में 10 लाख कारें बिक रही हैं। इसी तरह जगुआर के टॉप मॉडल की एक नई कार की कीमत 1.30 करोड़ रुपये है। ऐसी 10 साल पुरानी डीजल कार 12 लाख रुपये में बिक रही है।

फरीदाबाद में यूज्ड कारों के डीलर सुशील कुमार का कहना है कि वह टॉप मॉडल की जगुआर कार महज 12 लाख रुपये में बेच रहे हैं। इस कार को एक शौक़ीन ने रखा था। इसे उन्होंने 10 साल में सिर्फ 45 हजार किलोमीटर ही चलाया था। कमोबेश यही हाल बीएमडब्ल्यू ब्रांड की कारों का भी है। पंजाब में पांच लाख से 10 लाख के वाहन बिक रहे हैं, नए वाहन जिनकी कीमत पांच लाख से 10 लाख रुपये है, ऐसे पुराने वाहन भी एक से तीन लाख रुपये के बीच बिक रहे हैं|

दक्षिण भारत के प्रमुख शहरों बैंगलोर, चेन्नई, हैदराबाद में सभी प्रकार के पुराने वाहनों की मांग है। दक्षिण भारत में लोग आमतौर पर पहले पुरानी कार और फिर नई कार खरीदते हैं। ऑनलाइन यूज्ड कार खरीदने और बेचने वाली कंपनियां भी दिल्ली एनसीआर में वाहनों की खूब खरीद-फरोख्त कर रही हैं, लेकिन पुरानी कारों के डीलर ज्यादा पुरानी कारों की खरीद-बिक्री कर रहे हैं|

About Vaibhav Patwal

Haldwani news