Breaking News
Home / उत्तराखंड न्यूज़ / उत्तराखंड में थांड से हुआ बुरा हाल, इंसानों के साथ घोड़े भी उठा रहे रम और ब्रांडी का लुत्फ

उत्तराखंड में थांड से हुआ बुरा हाल, इंसानों के साथ घोड़े भी उठा रहे रम और ब्रांडी का लुत्फ

वे दिन नजदीक आ रहे हैं जब पूरे उत्तराखंड राज्य में हिमालय के ऊंचे इलाकों में भारी बर्फबारी के कारण कड़ाके की ठंड पड़ेगी। उत्तराखंड में इन दिनों कड़ाके की ठंड पड़ रही है. बर्फबारी के कारण तापमान में लगातार गिरावट आ रही है। कड़ाके की ठंड इतनी पड़ रही है कि लोग अपने घरों में कंबल ओढ़े हुए हैं। हीटर से लेकर अलाव तक ठंड को मात देने के तमाम हथकंडे नाकाम हो रहे हैं. ठंड को मात देने के लिए कई लोग शराब और ब्रांडी का सहारा ले रहे हैं. आपने सुना होगा कि कई घरों में जुकाम के घरेलू उपचार के रूप में ब्रांडी और रम का उपयोग किया जाता है। बड़े बच्चों को भी ठंड लगने पर उन्हें ब्रांडी और रम दिया जाता है।

इस बार उत्तराखंड में भीषण ठंड का असर जानवरों पर भी पड़ रहा है. वे भी इस सर्द मौसम से अछूते नहीं हैं। साथ ही पशुओं के लिए ठंड सहन करना इतना मुश्किल साबित हो रहा है कि उन्हें ब्रांडी और रम भी दिया जा रहा है. चौंकिए नहीं, क्योंकि उत्तराखंड में ठंड से बचने के लिए जानवरों को भी शराब पिलाई जा रही है|

नैनीताल में बर्फबारी और बारिश के बाद पहले ही तापमान और गिर गया है और घोड़ों को उसी ठंड से बचाने के लिए तरह-तरह के तरीके अपनाए जा रहे हैं. जहां घोड़ों को गर्म रखने के लिए गुड़, अजवायन और सरसों का तेल दिया जा रहा है, वहीं कुछ विशेष प्रजाति के घोड़ों को ब्रांडी और रम पीकर सर्दी से निजात मिल रही है।

घोड़ा चालक सेवा समिति के अध्यक्ष मोहम्मद उमर ने कहा कि नैनीताल में कुल 94 घोड़े हैं और शहर में पर्यटकों को ले जाने के लिए इनका इस्तेमाल किया जाता है. जिसमें लवर्स पॉइंट, सुसाइड पॉइंट और डोरोथी सीट शामिल हैं। तापमान में गिरावट के कारण वे भी ठंड की चपेट में आ रहे हैं। ऐसे में घोड़ों को ठंड से बचाने के लिए उन्हें गर्मागर्म खाना परोसा जा रहा है. अत्यधिक ठंड में इन घोड़ों को 20 मिलीलीटर ब्रांडी और रम दिया जाता है। घोड़ों के शरीर में गर्मी बनाए रखने के लिए गुड़, तेल और अजवायन पकाकर उन्हें चारा खिलाएं।

About Vaibhav Patwal

Haldwani news