Breaking News
Home / उत्तराखंड न्यूज़ / उत्तराखंड के ऋषभ पंत ने तोड़ा धोनी का रिकॉर्ड, ऑस्ट्रेलिया के बाद दक्षिण अफ्रीका में दिखा या कमाल

उत्तराखंड के ऋषभ पंत ने तोड़ा धोनी का रिकॉर्ड, ऑस्ट्रेलिया के बाद दक्षिण अफ्रीका में दिखा या कमाल

भारतीय क्रिकेट टीम के उभरते हुए खिलाड़ी ऋषभ पंत ने अपने समय की सबसे बड़ी उपलब्धि हासिल की है जिसके बारे में उन्होंने खुद नहीं सोचा था। उन्होंने अपनी बल्लेबाजी और विकेटकीपिंग से बड़े खिलाड़ियों के रिकॉर्ड तोड़े हैं. अब देवभूमि उत्तराखंड के ऋषभ पंत ने भारतीय टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी का रिकॉर्ड भी तोड़ दिया है।

जी हां, भारतीय क्रिकेट टीम के विकेटकीपर बल्लेबाज ऋषभ पंत ने दक्षिण अफ्रीका में एक रिकॉर्ड बनाया था। पंत स्टंप्स के पीछे सबसे तेज 100 विकेट लेने वाले एकमात्र भारतीय विकेटकीपर बन गए हैं। उन्होंने अपने करियर के 26वें टेस्ट में 100 विकेट लेकर एमएस धोनी और रिद्धिमान साहा के रिकॉर्ड भी तोड़े हैं। पंत ने बहुत कम उम्र में पूर्व कप्तान माही का रिकॉर्ड भी तोड़ दिया है। उन्होंने बॉक्सिंग डे टेस्ट के तीसरे दिन मोहम्मद शमी की गेंद पर टेम्बा बावुमा को कैच देकर अपना 100वां शिकार पूरा किया। बता दें पंत बॉक्सिंग डे टेस्‍ट में इस रिकॉर्ड को अपने नाम करने के लिए पंत बस 3 कैच से ही दूर थे। पंत ने 26वें टेस्‍ट में अपने 100 शिकार पूरे किए।

इससे पहले यह रिकॉर्ड एमएस धोनी और रिद्धिमान साहा के नाम संयुक्त रूप से था। धोनी और साहा दोनों ने अपने करियर के 36वें टेस्ट में 100 विकेट पूरे किए। तीसरे स्थान पर किरण मोरे (39 टेस्ट), चौथे स्थान पर नयन मोंगिया (41 टेस्ट) और पांचवें स्थान पर सैयद किरमानी (42 टेस्ट) हैं। विकेटकीपर की बात करें तो सबसे ज्यादा शिकार करने का भारतीय रिकॉर्ड पूर्व कप्तान एमएस धोनी के नाम दर्ज है।

धोनी ने अपने क्रिकेट करियर में स्टंप्स के पीछे कुल 294 शिकार किए। उनके बाद दूसरे नंबर पर सैयद किरमानी (198), तीसरे नंबर पर किरण मोरे (130), चौथे नंबर पर नयन मोंगिया (107) और पांचवें नंबर पर रिद्धिमान साहा (104) हैं। ऋषभ पंत ने 2018 में टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण किया था। इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया में उन्होंने अपनी क्षमता और शानदार कौशल से सभी को चौंका दिया था। उन्होंने इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया में शतक बनाए हैं। ऋषभ पंत ने भारत को ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट सीरीज जीतने में अहम भूमिका निभाई थी।

About Vaibhav Patwal

Haldwani news